उत्तराखंड: वैज्ञानिक के घर पर ATS का छापा, पाकिस्तान को खुफिया सूचना देने का आरोप

उत्तराखंड में एक खबर से हड़कंप मच गया है। एक वैज्ञानिक पर पाकिस्तान को खुफिया जानकारियां पहुंचाने का आरोप लगा है। पढ़िए ये खबर

Uttarakhand ats raid in drdo scientist house - uttarakhand ats raid, drdo scientist, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,IIT रुड़की,इस्लामिक स्टेट,पाकिस्तान,ब्रह्मोस मिसाइल

हनीट्रैप...आतंक का एक ऐसा मायाजाल जहां भोले भाले युवा अनचाहे ही फंस जाते हैं। बताया जा रहा है कि इसी हनीट्रैप के जाल में उत्तराखंड का एक युवा वैज्ञानिक फंसा है। हनीट्रैप..यानी खूबसूरत हसीनाओं का एक जाल...जिसमें युवाओं को जान बूझकर फंसाया जाता है। हनीट्रैप का इस्तेमाल खासतौर पर उन युवाओं के लिए किया जाता है , जो किसी जिम्मेदाराना पद पर बैठे होंगे। हाल ही में एटीएस ने रुड़की-देहरादून रोड पर DRDO के वैज्ञानिक के घर छापा मारा। वैज्ञानिक के घर पर आधे घंटे की तलाशी ली गई और उसके लैपटॉप को कब्जे में लिया गया है। वैज्ञानिक पर ब्रह्मोस मिसाइल से जुड़ी सूचनाएं पाकिस्तान की एक एजेंसी को भेजने के आरोप हैं। इस बारे में केंद्रीय इंटेलिजेंस से भी संपर्क साधा जा रहा है।

यह भी पढें - उत्तराखंड: दारू पीने से मना किया...तो बेरहम पति ने पत्नी को पीट-पीटकर मार डाला
वैज्ञानिक निशांत अग्रवाल को गिरफ्तार किया गया है। एसएसपी कृष्ण कुमार वीके ने मीडिया को जानकारी दी है कि निशांत पर ब्रह्मोस मिसाइल से जुड़ी सूचनाएं पाकिस्तान की एक एजेंसी को भेजने के आरोप हैं। बताया जा रहा है कि निशांत के फेसबुक अकाउंट पर पाकिस्तान की महिलाओं से दोस्ती के भी कुछ सबूत मिले हैं। शुरुआती जांच ये ही कहती है कि निशांत फेसबुक के ज़रिए पाकिस्तान के हनीट्रैप जाल में फंस गया। इसके बाद वो देश की गोपनीय सूचना पाकिस्तान को दे रहा था। निशांत चार साल से डीआरडीओ में बतौर सिस्टम इंजीनियर तैनात हैं। उन्हें साल 2017-18 में यंग साइंटिस्ट अवॉर्ड भी मिल चुका है। आखिर ऐसा क्या हुआ कि निशांत इस जाल में फंस गए ? इसके पीछे एक खास वजह भी है। आपको बता दें कि आतंकियों की नज़रें अब उत्तराखंड पर हैं।

यह भी पढें - उत्तराखंड में दर्दनाक हादसा...खाई में गिरी मिनी बस, 5 लोगों की मौत की खबर
खासतौर पर रुड़की की बात करें तो दो साल पहले भी आइबी ने रुड़की से इस्लामिक स्टेट से जुड़े चार संदिग्ध आतंकी पकड़े थे। ये सभी लंढौरा के रहने वाले थे। इन सभी का प्लान अर्धकुंभ के दौरान तबाही मचाने का था। इनके कब्जे से माचिस की तिल्ली में इस्तेमाल होने वाला बारूद बरामद किया गया था। बताया जा रहा है कि जौरासी गांव के एक ट्यूबवेल में इन आतंकियों ने धमाके की रिहर्सल भी की थी। उधर अब निशांत की गिरफ्तारी के बाद हड़कंप मच गया है। बताय जा रहा है कि निशांत अग्रवाल होनहार छात्र रहा है। वो सेंट ग्रेबियल्स स्कूल का टॉपर रहा है। 5 साल पहले उसने NIT कुरुक्षेत्र से पढ़ाई की है। इसके बाद उसने IIT रुड़की से इंटर्नशिप की अप्रैल में निशांत ने शादी की थी और इसके बाद से वो घर नहीं आया था। अब देखना है कि इस मामले में आगे क्या होता है।


Uttarakhand News: Uttarakhand ats raid in drdo scientist house

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें

नवरात्र की शुभकामनाएं