Video: उत्तराखंड में दिखी उड़ने वाली गिलहरी, दुनियाभर के वैज्ञानिकों में खुशी की लहर

बताया जाता है कि इस गिलहरी को अब तक कुछ एक देशों में ही देखा गया है। भारत में ये गिलहरी हिमालयी क्षेत्रों में पाई जाती है और इस बार उत्तराखंड में नज़र आई।

flying squirral in uttarakhand - flying squirral, uttarakhand wild life, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,हिमालय,उत्तरकाशी,देहरादून,नेलांग,गिलहरीउत्तराखंड,

दुनियाभर में तीन तरह की गिलहरियां पाई जाती हैं। ये हैं पेड़ों पर रहने वाली, जमीन पर घूमने वाली और उड़ने वाली। इनमें से उड़ने वाली गिलहरी का किस्सा सबसे दिलचस्प है। दरअसल वैज्ञानिक शोध कहती है कि 80 साल पहले इस गिलहरी की प्रजाति खत्म हो गई थी। और अब बेहद ही कुस्मत से ये गिलहरियां दिखती हैं। भारत, चीन, रूस, तिब्बत, अफ्रीका और उत्तरी अमेरिका के कुछ भागों में इसे बहुत रिसर्च के बाद देखा गया है। भारत में उड़न गिलहरी हिमालय के आसपास देवदार के पेड़ों पर ग्लाइडिंग करती देखी गई थी। इस बीच खुशी की खबर ये है कि उत्तरकाशी के नेलांग वैली में ही इस वुली फ्लाइंग स्क्वेरल को देखा गया है। दिलचस्प बात ये भी है कि करीब 30 साल पहले ये गिलहरी पाकिस्तान के हिमालयी क्षेत्र में देखी गई थी।

यह भी पढें - देवभूमि के ऋषभ पंत ने इंग्लैंड में जड़ा शतक, कई रिकॉर्ड तोड़कर बनाई पहली टेस्ट सेन्चुरी
दरअसल उत्तराखंड में जीव जंतुओं की पांच नई प्रजातियां मिली हैं। वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट आफ इंडिया देहरादून के वैज्ञानिक बीते 5 साल से नेलांग वैली में शोध कर रहे हैं। इंस्टीट्यूट के वार्षिक शोध सम्मेलन में बताया गया है कि नेलांग वैली में फ्लाइंग स्क्वैरल दिखी है। वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. एस सथ्यकुमार ने इस बारे में कुछ खास बातें बताई हैं। उन्होंने बताया कि नेलांग में पिछले दो सालों से कैमरा ट्रैप लगाकर शोध किया जा रहा था। इसी दौरान वहां पांच नई प्रजाति के जीव जंतु कैमरा ट्रैप में देखे गए। तिब्बतन आर्गाली , यूरेशियन लिंस, तिब्बतन सेंड फॉक्स, वाइल्ड डॉग और फ्लाइंग फॉक्स को देखा गया है। आपको बता दें कि नॉर्थ अमेरिका में कभी उड़न गिलहरी को देखा गया था जिसकी लंबाई 30 सेंटीमीटर से 60 सेंटीमीटर के बीच बताई गई थी।

यह भी पढें - Video: पहाड़ी छोरे का पाकिस्तान के खिलाफ मैच में जलवा, इस साल का बेस्ट कैच लपका
उड़ने वाली गिलहरी की आंखें बड़ी होती हैं। इसके पूरे शरीर पर मुलायम और घने बाल होते हैं। ये गिलहरियां पेड़ों की डालियों पर उल्टी लटकी रहती हैं और इसके तनों में घोंसला बनाकर रहती हैं। कीड़े-मकोड़ों के अलावा फूल-पत्तियों को कुतर-कुतर कर खाती हैं। आप भी फ्लाइंग फॉक्स का ये वीडियो जरूर देखिए।

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Uttarakhand News: flying squirral in uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें