टिहरी झील के किनारे बसे गांवों पर मंडराया खतरा, जलस्तर बढ़ने से कई मकानों में दरारें

टिहरी डैम के बढ़ते जलस्तर से लोग डरे हुए हैं, कई मकानों में दरारें पड़ गई हैं, पढ़ें पूरी खबर

Tehri dam water level scaring the villagers - Tehri, Tehri dam, Uttarakhand, Tehri dam water level, देहरादून, उत्तराखंड, टिहरी, टिहरी झील, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

टिहरी झील उत्तराखंड के पर्यटन का आधार है। हर साल लाखों पर्यटक टिहरी झील के आकर्षण में बंधे उत्तराखंड खिंचे चले आते हैं। झील से पर्यटन को बढ़ावा तो मिला है, पर इन दिनों झील के किनारे रहने वाले लोग डरे हुए हैं। इस डर की वजह है टिहरी झील का लगातार बढ़ता जलस्तर। पहाड़ों में बारिश थम गई है, लेकिन टिहरी झील का जलस्तर अब भी कम नहीं हुआ है। झील में पानी बढ़ने से आस-पास के गांवों पर डूबने का खतरा मंडरा रहा है। कई लोगों के घरों में दरारें पड़ गई हैं, डरे हुए लोगों ने इस बारे में शासन-प्रशासन से शिकायत भी की है, लेकिन समस्या पर कोई ध्यान नहीं दे रहा। टिहरी डैम के किनारे रहने वाले लोग डर के साये में जी रहे हैं। लोगों ने कहा कि डैम निर्माण के वक्त सरकार ने उन्हें झील के पास अलग-अलग जगहों पर विस्थापित किया था, लेकिन अब उनके आशियानों पर एक बार फिर डूबने का खतरा मंडरा रहा है।

यह भी पढ़ें - गढ़वाल के गरीब घर की बेटी को बचाएं, ब्लड कैंसर से जूझ रही है त्रिशा..मदद करें, शेयर करें
झील का जलस्तर बढ़ता जा रहा है। आस-पास रहने वाले लोगों के घरों में दरारें पड़ने लगी हैं। हालात कितने बद्तर हो चुके हैं, इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि डरे हुए लोग खुले में रह रहे हैं। कई परिवार खुले आसमान तले रात बिताने को मजबूर हैं। जब भी टिहरी का जलस्तर आरएल 820 मीटर से ऊपर बढ़ता है, गांव के नीचे पानी जमा हो जाता है। इन दिनों ऐसा ही हो रहा है, झील का जलस्तर बढ़ा हुआ है। मवेशियों की जान खतरे में है। घरों में दरारें पड़ गई हैं। लोगों ने प्रशासन पर लापरवाही का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार उनकी समस्या को गंभीरता से नहीं ले रही। कई बार शिकायत करने के बाद भी उनकी समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया जा रहा, ऐसा ही चलता रहा तो वो आंदोलन करने को मजबूर होंगे।


Uttarakhand News: Tehri dam water level scaring the villagers

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें