Video: देहरादून में ATM क्लोनिंग से हड़कंप, 10 बैंक खातों से उड़े 3.85 लाख रुपये..देखिए

अगर आप देहरादून में रहते हैं, तो ये खबर आपके लिए है। क्योंकि साइबर क्राइम और एटीएम क्लोनिंग के जाल में देहरादून फंस रहा है। वीडियो जरूर देखिएगा

ATM cloning and fraud in dehradun - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, एटीएम क्लोनिंग, देहरादून क्राइम, देहरादून न्यूज, उत्तराखंड क्राइम, देहरादून एटीएम, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, ATM Cloning, Dehradun Crime, Dehradun News, Uttarakhand Crime, Dehradun ATM, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

ज़रा सोचिए...एटीएम कार्ट आपकी जेब में है और आपके एटीएम का डुप्लीकेट भी तैयार हो गया और पैसे भी निकाल लिए गए। साइबर हैकर्स और एटीएम हैकर्स का नया हथियार बन गया है स्कीमिंग। धोखेबाजों और जालसाजों के लिए अब ये आसान हो गया है। ये ही वजह है कि देहरादून में एटीएम क्लोनिंग के जरिये दस बैंक खातों से 3.85 लाख रुपये उड़ा दिए गए। लोगों के बैंक अकाउंट से पैसे कटते रहे और हर कोई हैरान रह गया। लोग आनन-फानन में बैंक पहुंचे और बैंक के अधिकारियों को इस बारे में जानकारी दी। देहरादून के रिंग रोड पर स्थित है इंडियन ओवरसीज बैंक का एटीएम। यहां से 8 दिसंबर से लेकर 9 दिसंबर के बीच जालसाजों ने पैसे निकाले। जब बैंक अधिकारिय़ों ने ATM की सीसीटीवी फुटेज खंगाली तो दो युवक नज़र आए। अब जानिए पूरी कहानी..

यह भी पढें - देहरादून में भवन बनाने से पहले ये पढ़ लीजिए, हाईकोर्ट की सख्ती के बाद नया नियम लागू
सीसीटीवी फुटेज की जांच की गई तो दो युवक एटीएम में स्कीमर लगाते दिखे। आइटी एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया गया है और जालसाजों की तलाश भी शुरू हो गई है। अब तक की छानबीन कहती है कि दो युवक 8 दिसंबर की रात 10 बजे के करीब इंडियन ओवरसीज बैंक के एटीएम में दाखिल हुए। दोनों एटीएम में स्कीमर और खुफिया कैमरा फिट करते हैं और निकल जाते हैं। अगले 24 घंटे के दौरान लोग बेफिक्र होकर ATM से पैसे निकालते हैं। शनिवार से उनकी चोरी का सिलसिला शुरू होता है। सबसे पहले इंडियन ओवरसीज बैंक की अकाउंट होल्डर पूजा बिष्ट के खाते से 40 हजार रुपये निकल गए। उन्होंने तुरंत बैंक जाकर इसकी शिकायत की। बैंक मैनेजर ने चेन्नई स्थित सेंट्रल ऑफिस से संपर्क किया तो पता चला कि निरंजनपुर के एटीएम से सोमवार दोपहर 3.05 बजे से 3.30 बजे के बीच पैसे निकाले गए।

यह भी पढें - देहरादून में भीषण हादसा, बाइक एक्सीडेंट में धड़ से अलग हुई युवक की गर्दन
इसके बाद तो पुख्ता हो गया कि पूजा बिष्ट के एटीएम कार्ड की क्लोनिंग की गई है। अभी इस मामले की जांच चल रही थी कि नौ और लोग बैंक पहुंच गए और खाते से रकम निकलने की बात कहने लगे। बैंक अधिकारियों के होश उड़ गए। पुलिस को खबर की गई और पुलिस ने इंडियन ओवरसीज बैंक से संपर्क किया। एटीएम के CCTV कैमरे की फुटेज निकलवाई गई। तब देखा गया कि आठ दिसंबर की रात दस बजे के करीब दो युवक ATM में स्कीमर और कैमरा फिट कर रहे हैं। बाद में नौ दिसंबर की रात पौने दस बजे स्कीमर को निकाला गया। पता चला है कि जालसाज हरिद्वार की तरफ भाग गए हैं। पुलिस हाथ पर हाथ मलती रह गई। वीडियो देखिए।

दून पुलिस ने बताया ऐसे होती है ATM की क्लोनिंग

एटीएम क्लोनिंग से जालसाज आपके खाते से रकम निकाल सकते हैं, इसलिए सावधान रहें

Posted by Dankaram on Saturday, December 15, 2018


Uttarakhand News: ATM cloning and fraud in dehradun

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें