Video: प्रीतम भरतवाण का रिकॉर्डतोड़ जागर, भगवान शिव की भक्ति में डूब जाएंगे आप

कहते हैं कि जागरों में बड़ी ताकत होती है। गर्व की बात ये है कि प्रीतम भरतवाण ने इस परंपरा को जिंदा रखा है।

Pritam bharatwan jagar - उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज , प्रीतम भरतवाण, उत्तराखंडी गीत, गढ़वाली गीत ,uttarakahnd news, latest uttarakhand news, pritam bhartwan, uttarakhandi geet, garhwali song, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

प्रीतम भरतवाण...ये नाम आज के दौर में उत्तराखंड का बच्चा बच्चा जानता है। हर कोई जानता है कि उत्तराखंड की जागर कला को एक नया रूप और नया कलेवर देने में प्रीतम भरतवाण का ही हाथ रहा है। जानकार कहते हैं कि अगर प्रीतम भरतवाण नहीं होते, तो आज के युवा जागर की विधा को भूल चुके होते। आज प्रीतम भरतवाण अपनी जागरी के दम पर देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी लोकप्रिय हैं। आपको याद होगा कि हाल ही में अमेरिका के सिनसिनाटी के छात्रों और शोधकर्ताओं को प्रीतम भरतवाण ने ढोल और दमाऊं से भी परिचित करवाया था। जागर सम्राट कहे जाने वाले प्रीतम भरतवाण हाल ही में एक बेहतरीन जागर लेकर आए थे। सिर्फ दो महीने के भीरत ही इस जागर को यू-ट्यूब पर करीब 9 लाख लोग देख चुके हैं।

यह भी पढें - उत्तराखंड में कल से सेना भर्ती रैली, पहाड़ के युवाओं को लंबाई में छूट..जानिए बड़ी बातें
पहाड़ की इस परंपरा को जिंदा रखे हुए प्रीतम भरतवाण के इस गीत में जागर की पूरी झलक दिखती है। इस जागर को खुद प्रीतम भरतवाण ने लिखा है। संजय कुमोला का संगीत, अरविंद नेगी का डायरेक्शन, नागेंद्र प्रसाद की एडिटिंग और पवन गुंसाई की रिकॉर्डिंग शानदार है। प्रीतम उत्तराखंड के सुपरहिट लोकगायकों में से एक हैं। जागर को अंतर्राष्ट्रीय पहचान देने वाले प्रीतम के बारे में कहा जाता है कि, वो जब भी कोई गाना लिखते हैं, तो उसमें रच जाते हैं, उसमें रम जाते हैं। सच कहें तो प्रीतम की इस जुगलबंदी का कोई सानी नहीं है। ये ही वजह है कि उत्तराखंड के गायकों में से वो सबसे ज्यादा अलग खड़े होते हैं। ये प्रीतम के ही शब्दों का जादू है कि , इस गाने को कहीं भी टूटने नहीं दिया। यकीन मानिए आप इस जागर को एक बार सुनेंगे तो बार बार सुनते जाएंगे।

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Uttarakhand News: Pritam bharatwan jagar

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें