उत्तराखंड का वो मंदिर..जहां मार्क जुकरबर्ग भी सिर झुकाते हैं, खुद बताई हैं बड़ी बातें

भले ही आपको थोड़ा अजीब लगे, लेकिन ये सच है कि उत्तराखंड के इस मंदिर को दिव्य ताकतों का कंद्र बिंदु कहा जाता है।

baba neem karoli of uttarakhand - neem karoli dham, uttarakhand temple, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,अमेरिका,कैंची धाम,जूलिया रॉबर्ट्स,फेसबुक,मार्क जुकरबर्ग,स्टीव जॉब्स

उत्तराखंड का ये मंदिर विश्व भर में विख्यात है। दुनियाभर में इस मंदिर को किस्मत बनाने वाला बाबा के मंदिर के बारे में जाना जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि फेसबुक के मालिक मार्क जुकरबर्ग और हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया रॉबर्ट्स बाबा की भक्त हैं। इसके साथ ही बाबा के भक्तों में एप्पल के मालिक स्टीव जॉब्स भी गिने जाते थे। जी हां ये है उत्तराखंड के कुमाऊं अंचल में बसा बाबा नीम करौली का धाम यानी कैंची धाम। बाबा नीम करोली बाबा को हनुमान जी रूप भी बताया जाता है। वर्तमान में बाबा तो समाधि ले चुके हैं लेकिन कहा जाता है कि हनुमान जी का ये मंदिर बिगड़ी तकदीर बनाने की ताकत रखता है। खुद मार्क जुकरबर्ग इस बारे में बता भी चुके हैं। 27 सितंबर 2015 को जब पीएम मोदी फेसबुक के मुख्यालय यानी सिलिकॉन वैली में थे तो उस दौरान बातों का दौर चल रहा था।

यह भी पढें - देवभूमि का देवीधुरा मंदिर, यहां आज भी होता है बग्वाल युद्ध..रक्त से लाल होती है धरती
इसी बीच जुकरबर्ग ने कहा कि एक वक्त ऐसा भी आया जब वो फेसबुक को बेचना चाहते थे। उसी दौरान एप्पल के फाउंडर स्टीव जॉब्स ने उन्हें भारत के उत्तराखंड में मौजूद कैंची धाम मंदिर में जाने की सलाह दी थी। जुकरबर्ग ने बताया था कि वो इसके बाद एक महीने भारत में रहे। इसी दौरान कैंची धाम भी गए थे। मंदिर के कुछ ट्रस्टी बताते हैं कि गूगल के पूर्व डायरेक्टर लैरी ब्रिलियंट ने ही आश्रम में फ़ोन करके जानकारी दि कि मार्क जुकरबर्ग नाम का लड़का कैंची धाम में आ रहा है और कुछ दिन यहीं रुकेगा। जब जुकरबर्ग इस मंदिर में आये थे तो उनके पास एक किताब थी। जुकरबर्ग भले ही यहा एक दिन के लिए आए थे लेकिन मौसम खराब होने की वजह से दो दिन तक रुके थे। इसके अलावा एप्पल के मालिक स्टीव जॉब्स भी बाबा नीम करौली के भक्त कहे जाते हैं।

यह भी पढें - देवभूमि के इस मंदिर से आप कभी खाली हाथ नहीं जा सकते, मां कुछ जरूर देंगी !
दरअसल इसकी जानकारी भी एप्पल के सीईओ टिम कुक ने मोदी को दी थी। जब मोदी अमेरिका दौरे के दौरान सैन होज़े में थे तो टिम कुक ने बताया था कि "हमारे फाउंडर स्टीव जॉब्स इन्सपिरेशन के लिए भारत गए थे। जॉब्स 1974 में दोस्तों के साथ नीम करौली बाबा से मिलने भारत आए थे। तब तक बाबा का निधन हो चुका था। लेकिन जॉब्स कुछ दिन आश्रम में ही रुके थे।“ आपको जानकर हैरानी होगी कि हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया रॉबर्ट्स, डॉक्टर रिचर्ड एल्पेर्ट और मशहूर लेखक डेनियल भी यहां आ चुके हैं। नीम करोली बाबा की महिमा न्यारी है। भक्तजनों की माने तो बाबा की कृपा से सभी बिगड़े काम बन जाते हैं। ये ही वजह है कि बाबा के बनाए सारे मंदिरों में भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ता है।


Uttarakhand News: baba neem karoli of uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें