देहरादून के आशीष की शादी के कार्ड हुआ वायरल, बारात में आने वाले बाराती लेंगे खास शपथ

आशीष की शादी के कार्ड में दो संदेश लिखे हैं, इन संदेशों को अगर जीवन में उतार लिया तो हिमालय और इंसानियत दोनों की सेवा होगी...

Save Himalaya from wedding card remove polythene message - remove polythene message, Save Himalaya, environment friendly wedding card, Dehradun, ashish nautiyal, उत्तराखंड, मोहकमपुर, आशीष नौटियाल, देहरादून, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

पहाड़ के लिए प्लास्टिक बड़ा खतरा है, प्लास्टिक से पहाड़ों की खूबसूरती कैसे बदरंग हो रही है ये देखना हो तो पहाड़ के किसी भी पर्यटक स्थल चले जाईए। हर तरफ बस सिंगल यूज प्लास्टिक की बोतलें और कचरा ही नजर आएगा। सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल रोकने के लिए सरकार मुहिम चला रही है, अच्छी बात ये है कि अब आम लोग भी इस मुहिम से जुड़ने लगे हैं, खुद भी जागरूक हो रहे हैं और दूसरों को भी प्लास्टिक के दुष्प्रभाव बता रहे हैं। एक ऐसी ही कोशिश की है, देहरादून के रहने वाले आशीष नौटियाल ने, जिनकी शादी का कार्ड इन दिनों सोशल मीडिया पर खूब चर्चा पा रहा है। आमतौर पर कार्ड में वही सुनी-सुनाई शायरी और मंत्र लिखे होते हैं। पर ये कार्ड अलग है। कार्ड में मेहमानों के लिए दो संदेश लिखे गए हैं। पहला संदेश प्रकृति को बचाने का है। जिसमें अतिथियों से प्रतिज्ञा लेने को कहा गया है कि वो दैनिक जीवन में प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं करेंगे।

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड: 9 हजार रुपये में खरीदी थी बाइक, 10 हजार रुपये का कटा चालान

1/1 कार्ड में ये है संदेश
Save Himalaya from wedding card remove polythene message

कार्ड में पॉलीथिन हटाओ, हिमालय बचाओ का संदेश लिखा गया है। दूसरा संदेश भोजन की बर्बादी रोकने को लेकर है। लोगों से कहा गया है कि वो खाने की बर्बादी ना करें। आशीष नौटियाल दून के मोहकमपुर में रहते हैं। वो कहते हैं कि प्लास्टिक से सिर्फ हिमालय ही नहीं हमारे जीवन को भी खतरा है। लोग शादियों-पार्टियों में सिंगल यूज प्लास्टिक और पॉलीथिन का बहुत इस्तेमाल करते हैं। ये सही नहीं है। हिमालय और पर्यावरण को बचाना है तो प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करना होगा। ये हम सबकी जिम्मेदारी है। इसी तरह खाने की बर्बादी करना उन लोगों का मजाक उड़ाना है, जिन्हें एक वक्त का भोजन भी नहीं मिल पाता। आशीष कहते हैं है कि हमने पांच सौ कार्ड छपवाएं हैं। एक परिवार में 5 से 10 लोग रहते हैं, इस तरह 5 हजार लोगों तक ये संदेश पहुंचेगा। दूल्हे आशीष नौटियाल की इस सोच की हर किसी ने सराहना की। आशीष की शादी का कार्ड सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। लोगों ने शादी के कार्ड पर छपे इन संदेशों की खूब तारीफ की।


Uttarakhand News: Save Himalaya from wedding card remove polythene message

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें