उत्तराखंड: इन 24 गांवों के लिए गुड न्यूज, हाथियों को रोकने के लिए 120 युवाओं की होगी भर्ती

24 गांवों से 5-5 युवाओं को चयनित किया जाएगा और आउट सोर्स के जरिए नियुक्त किया जाएगाय़ पढ़िए पूी खबर...

FOREST DEPARTMENT BHARTI IN HARIDWAR - उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, उत्तराखंड रोजगार, उत्तराखंड में रोजगार, वन विभाग भर्ती उत्तराखंड, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Uttarakhand Employment, Employment in Uttarakhand, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

उत्तराखंड के कई गांव ऐसे हैं जहां के लोग हाथियों के आतंक से त्रस्त हैं। खासतौर पर हरिद्वार की बात करें तो यहां लोग हाथियों के आतंक से हलकान हो चुके हैं। अब वन विभाग ने हाथियों को रोकने के लिए नई रणनीति बनाई है। इसके तहत जिन 24 गांव में हाथियों का आतंक ज्यादा है वहां पर युवाओं को आउट सोर्स के जरिए नियुक्त किया जाएगा और निगरानी के लिए तैनात किया जाएगा। डीएफओ आकाश कुमार वर्मा का कहना है कि हर गांव से 5-5 युवाओं का सिलेक्शन होगा। इसके लिए शासन को प्रस्ताव भेज दिया गया है। अनुमति मिलते ही युवाओं की नियुक्तियां कर दी जाएंगी। आपको बता दें कि बीते दिनों हाथी के हमले में इन गांवों के आसपास 2 लोगों की मौत हो चुकी है और इस वजह से यहां दहशत का माहौल है। खासतौर पर एक महिला की मौत के बाद तो गांव वालों ने वन विभाग के अधिकारियों को ही बंदी बना दिया था।

यह भी पढ़ें - देहरादून: रिकॉर्ड बनाने के चक्कर में हांफता रहा शहर, पुलिस का ट्रैफिक प्लान फेल!
ऐसे में वन विभाग भी अब इस बात को लेकर चिंतित है और हाथियों का आतंक रोकने के लिए गांव के ही 55 युवाओं को चयनित करने की कोशिश में है पुलिस डॉग डीएफओ का कहना है कि हरिद्वार वन प्रभाग के पास फिलहाल सिर्फ 61 वनरक्षक और 37 वन दरोगा है इस क्षेत्र के जंगली जानवरों की गतिविधियों पर नजर डालें तो यह संख्या बहुत कम है इसी को देखते हुए शासन को प्रस्ताव भेजा गया। उनका कहना है कि 2 लोगों को मौत के घाट उतारने वाले हाथी की लोकेशन ट्रेस कर ली गई है और हाथी पर पूरी नजर रखी जा रही है। साथ ही उन किसानों को भी मुआवजा बांटा जा रहा है जिनकी फसल हाथियों द्वारा चौपट कर ली गई फिलहाल इतना जरूर है कि हरिद्वार में हाथियों के आतंक से ग्रस्त 24 गांव के युवाओं के लिए यह एक अच्छी ख़बर साबित हो सकती है


Uttarakhand News: FOREST DEPARTMENT BHARTI IN HARIDWAR

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें