उत्तराखंड: CM पोर्टल पर शिकायत के बाद तुरंत कार्रवाई, कोटद्वार में लोगों को मिली राहत

तलाशी के दौरान झोलाछाप डॉक्टर के क्लीनिक से भारी मात्रा में इंजेक्शन, टैबलेट और कुछ आपत्तिजनक दवाइयां बरामद हुईं..

Health department took action after complaint on cm portal - cm portal, Health department, trivendra singh rawat, Uttarakhand, pauri Garhwal, kotdwara, कोटद्वार, स्वास्थ्य विभाग, सीएम पोर्टल, उत्तराखंड, पौड़ी गढ़वाल, झोलाछाप डॉक्टर, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

सीएम पोर्टल लोगों के लिए काफी मददगार साबित हो रहा है। अब तक जिन शिकायतों पर प्रशासन-अधिकारी ध्यान नहीं देते थे, सीएम पोर्टल पर शिकायत के बाद उन पर तुरंत एक्शन लिया जा रहा है। सीएम पोर्टल पर शिकायत के बाद कोटद्वार के एक झोलाछाप डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है। नगर क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टरों की तादाद लगातार बढ़ रही है। गरीब लोग इनके झांसे में आकर अपनी जान खतरे में डाल देते हैं। ऐसा ही एक मामला साल 2016 में आया था। लकड़ी पड़ाव में अवैध क्लीनिक चलाने वाले झोलाछाप डॉक्टर ने 8 महीने की बच्ची को गलत इंजेक्शन लगा दिया था। बच्ची की हालत बिगड़ती गई। उसे देहरादून ले जाना पड़ा। कई दिन तक आईसीयू में रहने के बाद कहीं जाकर उसकी जान बच सकी। आरोपी झोलाछाप डॉक्टर के खिलाफ लोगों ने डीएम से लेकर एसडीएम और स्वास्थ्य अधिकारियों तक से शिकायत की थी, पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड: त्रिवेंद्र सरकार की पहली ई-कैबिनेट बैठक अगले महीने, हो रही हैं बड़ी तैयारियां
हाल ही में रमेश सिंह नाम के व्यक्ति ने झोलाछाप डॉक्टर की शिकायत सीएम पोर्टल पर की, तब कहीं जाकर स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया और लकड़ी पड़ाव स्थित क्लीनिक पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम को भारी मात्रा में इंजेक्शन, टैबलेट और कुछ आपत्तिजनक दवाइयां बरामद हुई। स्वास्थ्य विभाग ने इसकी रिपोर्ट सीएम पोर्टल पर भेज दी है। शिकायतकर्ता रमेश सिंह का कहना है कि आरोपी झोलाछाप डॉक्टर सालों से लोगों की जान से खेल रहा है, पर उसके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया। सीएम पोर्टल पर शिकायत के बाद मामले की रिपोर्ट सीएमओ पौड़ी को भेज दी गई है। जल्द ही आरोपी डॉक्टर के खिलाफ जरूरी कार्रवाई और उसकी डिग्री की जांच की जाएगी। क्लीनिक को भी सीज किया जायेगा।


Uttarakhand News: Health department took action after complaint on cm portal

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें