देहरादून की श्वेता: लोन लेकर शुरू किया बकरी पालन, अब लाखों में कमाई..देखिए वीडियो

देहरादून की श्वेता तोमर ने फैशन डिजाइनिंग जैसा ग्लैमरस फील्ड छोड़ कर बकरी पालन को अपनाया। अब Red FM ने भी इस पर खूबसूरत कहानी पेश की है।

Red fm story on shweta tomar dehradun - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, श्वेता तोमर देहरादून, श्वेता तोमर बकरी पालन,Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Shweta Tomar Dehradun, Shweta Tomar Goat Rearing, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

जज्बा होता है कुछ कर गुजरने का...यूं ही नहीं लोग मिसाल बनते हैं। ये कहानी है उत्तराखंड की श्वेता तोमर की, जो फैशन डिजाइनिंग का कोर्स करने के बाद मोटी तनख्वाह वाली नौकरी कर सकती थीं, लेकिन श्वेता ने अपने लिए कुछ अलग सोच रखा था। फैशन डिजाइनिंग जैसा ग्लैमरस फील्ड छोड़, श्वेता ने गोट फार्मिंग को अपनाया और अपनी मेहनत के दम पर इस काम में अपनी पहचान बनाई। अब Red Fm के आरजे काव्य ने इस पर एक बेहतरीन कहानी बनाई है। इसे ‘एक पहाड़ी ऐसा भी-सीजन 2’ में जगह दी गई है। पढ़े-लिखे लोगों को गोट फार्मिंग दूसरे दर्जे का काम लगता है, लेकिन बकरियां पाल कर श्वेता ने जो रिकॉर्ड कायम किए हैं, उनके बारे में अगर आप सुनेंगे तो आपकी सोच भी बदल जाएगी। रानीपोखरी की श्वेता ने अपने फार्म में बकरियों के साथ गौ-पालन और मुर्गीपालन भी शुरू किया है। उनका ये फार्म आधुनिक तकनीकों से लैस है।

यह भी पढें - Video: डीएम दीपक रावत की छापेमारी से जिम में मचा हड़कंप, मौके पर हुए बड़े खुलासे
पशुओं की देखरेख के लिए यहां पर हाईटेक सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। श्वेता कहती हैं कि उनके पिता हमेशा से एग्रो फार्म खोलना चाहते थे, बाद में श्वेता ने अपने स्वर्गीय पिता का सपना पूरा करने की ठानी और इसमें उन्हें सफलता भी मिली। श्वेता ने साल 2016 में प्रेम एग्रो फार्म की स्थापना की। आज श्वेता के फार्म में अलग-अलग नस्लों की सैकड़ों बकरियां हैं। यहां मुर्गियों के लिए अलग फार्म होने के साथ ही गौशाला भी बनी है। श्वेता कहती हैं कि उन्होंने अपने पति के साथ मिलकर करीब 1 करोड़ का प्रोजेक्ट बनाया था, लेकिन कोई भी बैंक उन्हें इतना लोन देने के लिए तैयार नहीं हुआ। बाद में उन्हें 30 लाख का लोन मिला और अपने 8 लाख रुपये लगाकर उन्होंने फार्मिंग शुरू कर दी। आज श्वेता इस काम में महारत हासिल कर चुकी हैं। अपने पिता के सपने के दम पर श्वेता ने ना केवल अपनी अलग पहचान बनाई, बल्कि उनकी बदौलत आज कई ग्रामीणों को रोजगार के अवसर भी मिल रहे हैं।

यह भी पढें - Video: टिहरी डीएम ने अपने पिता की गिरफ्तारी पर कहा ‘मैं कई सालों उनके संपर्क में नहीं’
दूसरे प्रदेशों के लोग भी श्वेता से फार्मिंग के टिप्स और ट्रेनिंग लेने के लिए देहरादून आते हैं।नामी रेडियो चैनल Red FM के आर जे काव्य ने भी श्वेता तोमर की स्टोरी को अपने अल्फाज दिए हैं। बागेश्वर के रहने वाले आर जे काव्य हाल ही में ‘एक पहाड़ी ऐसा भी’ कार्यक्रम का सीजन-2 लेकर आए हैं। इस कहानी में स्केचिंग के जरिए आप श्वेता तोमर की जिंदगी और उनके संघर्ष से रूबरू होंगे। Red FM की तरफ से तैयार ये खूबसूरत वीडियो अब तक हजारों बार देखा जा चुका है, आप भी ये प्रेरणा देने वाला ये वीडियो देखिए...उम्मीद है आपको ये खूब पसंद आएगा।

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Uttarakhand News: Red fm story on shweta tomar dehradun

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें