बद्रीनाथ में अब नहीं होंगे VIP दर्शन...'नेता जी' को भी लाइन में लगना पड़ेगा

अब वीआईपी लोगों को भी बदरीनाथ के दर्शन के लिए आम लोगों की तरह लाइन में लगना होगा...मंदिर समिति ने ये फैसला क्यों लिया चलिए बताते हैं।

VIP DARSHAN CLOSED IN BADRINATH DHAM - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, बद्रीनाथ धाम, बद्रीनाथ धाम यात्रा,Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Badrinath Dham, Badrinath Dham Yatra, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

यूं तो भगवान के लिए हर इंसान बराबर है, लेकिन इंसान ने इंसानों को आम, वीआईपी और वीवीआईपी कैटेगरी में बांट दिया है। खासतौर पर मंदिरों में ये व्यवस्था सबसे ज्यादा देखने को मिलती है जहां आम लोगों को भगवान के दर्शन के लिए कतार में लगना पड़ता है, लेकिन वीआईपी लोग शान से आते हैं और सबसे पहले भगवान के दर्शन कर निकल जाते हैं..कम से कम पहाड़ में अब ये नहीं होगा, उत्तराखंड के बदरीनाथ धाम में मंदिर समिति ने वीआईपी गेट को बंद करने का फैसला लिया है। यही नहीं इस फैसले पर अमल भी हो रहा है। गुजराती धर्मशाला के ठीक सामने बने वीआईपी गेट को बंद कर दिया गया है। यानी अब इस गेट से वीआईपी लोग एंट्री नहीं कर पाएंगे। आखिर ये गेट बंद क्यों किया गया? चलिए अब आपको इसकी वजह भी बता देते हैं।

यह भी पढें - बद्रीनाथ-केदारनाथ धाम के लिए मुकेश अंबानी का बड़ा ऐलान..5 बीघा में बनेगी चंदन वाटिका
दरअसल देश-विदेश के कोने-कोने से आने वाले वीआईपी लोग इस गेट के जरिए भगवान के मंदिर तक पहुंचा करते थे, जिसकी वजह से कई बार अव्यवस्था की स्थिति पैदा हो जाती थी। देश के अलग-अलग राज्यों से विधायक, सांसद, मंत्री, अधिकारी भगवान बदरी-विशाल के दर्शन वीआईपी गेट से करते थे। जिस वजह से व्यवस्था बनाए रखने में मंदिर समिति के पसीने छूट जाया करते थे, इन दिक्कतों से बचने के लिए मंदिर समिति ने वीआईपी गेट को बंद कर दिया है। अब वीआईपी लोगों को भी आम लोगों की तरह भगवान के दर्शन करने के लिए लाइन में लगना होगा। बदरी-विशाल के दर्शन अब वीआईपी लोगों को भी आम श्रदालुओं की तरह लाइन में लगकर करने होंगे। हालांकि वीआईपी गेट से बदरीनाथ धाम के मुख्य पुजारी रावल और मंदिर समिति के कर्मचारी आवाजाही करते रहेंगे। हां ये बात जरूर है कि VVIP लोगों के लिए VIP गेट की व्यवस्था बनी रहेगी।


Uttarakhand News: VIP DARSHAN CLOSED IN BADRINATH DHAM

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें