उत्तराखंड: कार ड्राइवर को आई झपकी, हादसे में 7 साल की मासूम समेत दो की मौत

जिस वक्त हादसा हुआ, उस वक्त 7 साल की तहसीन स्कूल जाने के लिए घर के बाहर खड़ी थी, वहीं हादसे में मारे गए दूसरे युवक की 6 नवंबर को शादी होने वाली थी।

Car crushed girl child and and man sleeping during driving - Nainital, Car crushed girl child, road accident, almora, Uttarakhand, द्वाराहाट, अल्मोड़ा, रामनगर रोड, नैनीताल, उत्तराखंड, रोड एक्सीडेंट, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

लापरवाही...ये ऐसी बीमारी है जो हम में रच-बस गई है। हम आए दिन हादसों की खबरें पढ़ते हैं, देखते हैं, पर सबक नहीं लेते। तब तक नहीं जागते जब तक हमारे साथ कोई हादसा नहीं होता। अब नैनीताल में ही देख लें, जहां कार ड्राइवर की झपकी ने पलक झपकते ही दो जिंदगियां लील लीं। कार ने पहले साइकिल सवार को टक्कर मारी, फिर एक बच्ची को कुचलते हुए सड़क किनारे खड़े ट्रक में जा घुसी। हादसे में कार का ड्राइवर तो बच गया पर 7 साल की मासूम समेत दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। मृतकों के घर में सन्नाटा पसरा है, परिजन रो-रोकर बेसुध हो गए हैं। घटना रामनगर हाईवे की है। जहां अल्मोड़ा जिले के नेवड़ा द्वाराहाट में रहने वाले रघुवीर सिंह, जीवन सिंह और पंकज राणा दिल्ली से द्वाराहाट जा रहे थे। तीनों भाई कार में अपने पिता का शव लेकर जा रहे थे। कार मथुरा सिंह नाम का ड्राइवर चला रहा था। सुबह पौने आठ बजे कार पीरूमदारा से चली तो चालक को झपकी आ गई। नींद में गाड़ी चला रहे ड्राइवर ने पहले साइकिल सवार को टक्कर मारी। बाद में घर के बाहर खड़ी एक बच्ची को कुचलते हुए खड़े ट्रक से जा भिड़ी। हादसे में 7 साल की तहजीब और 35 साल के राजेंद्र सिंह की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड: दर्दनाक सड़क हादसे में छात्र नेता की मौत, दो युवक घायल
जिस वक्त ये हादसा हुआ 7 साल की तहजीब स्कूल जाने के लिए घर के बाहर खड़ी थी। वो टांडा मल्लू में माउंट कारवेल पब्लिक स्कूल में कक्षा एक की छात्रा थी। पिता फिरोज ने बताया कि तीन भाई-बहनों में तहजीब सबसे बड़ी थी। बच्ची की मौत के बाद उसकी मां आशिया का रो-रोकर बुरा हाल है। हादसे में मारा गया साइकिल सवार राजेंद्र मजदूरी करता था। चिल्किया के रहने वाले राजेंद्र की छह नवंबर को शादी होनी थी। गुरुवार को लड़की वाले टीका की रस्म के लिए आने वाले थे। जिस घर में शादी की तैयारी थी, वहां अब मातम पसरा है। मां सुमित्रा देवी का भी रो-रोकर बुरा हाल है। कार सवार लोगों ने बताया कि ड्राइवर को नींद आ रही थी। उसने एक जगह कार को रोक कर मुंह भी धोया था, लेकिन 3 किमी चलने के बाद ही हादसा हो गया। आरोपी ड्राइवर अब पुलिस की हिरासत में है। पुलिस ने मृतकों के शव परिजनों को सौंपकर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।


Uttarakhand News: Car crushed girl child and and man sleeping during driving

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें