उत्तराखंड में देश की सबसे बड़ी FIR, 4 दिन से लिख रही है पुलिस..3 दिन और लगेंगे !

उत्तराखंड में गजब हो रहा है, यहां पिछले 4 दिन से एक एफआईआर लिखी जा रही है, जिसे लिखने में 3 दिन और लगेंगे...

Biggest fir writing in kashipur kotwali, against atal ayushman yojana fraud - Uttarakhand, kashipur kotwali, kashipur, atal ayushman yojana, fraud, Uttarakhand police, उत्तराखंड पुलिस, काशीपुर, उत्तराखंड, अटल आयुष्मान योजना घोटाला, स्वास्थ्य विभाग, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

आमतौर पर लोगों को पुलिस से परेशानी होती है, पुलिस से शिकायतें होती है, पर क्या आपने कभी सुना है कि पुलिस के लिए भी कोई सिरदर्द बन सकता है। ऐसा हुआ है काशीपुर में, जहां पुलिस की परेशानी की वजह कोई अपराधी नहीं, बल्कि एक रिपोर्ट है, ऐसी रिपोर्ट जिसे लिखते-लिखते पुलिसवालों के दिन का चैन छिन गया है, रातों की नींद उड़ गई है। समय बीत जाता है, पर रिपोर्ट ना हुई, बवाल हो गई, खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही। काशीपुर कोतवाली के इतिहास में पहली बार सबसे बड़ी एफआईआर लिखी जा रही है। रिपोर्ट लिखते-लिखते 4 दिन तो बीत गए हैं, पता चला है कि तीन दिन और लगेंगे। पुलिस की सिरर्ददी बनी ये रिपोर्ट अटल आयुष्मान घोटाले से जुड़ी है। काशीपुर के दो अस्पतालों पर घोटाले के आरोप लगे हैं। दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जा रही है। हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में एफआईआर लिखी जानी है, जिसे लिखने में मुहर्रिरों के पसीने छूट रहे हैं।

यह भी पढ़ें - उत्तराखंड के सांसदों पर मोदी सरकार का भरोसा, एक और सांसद को मिली बड़ी जिम्मेदारी
यहां आपको पूरा मामला भी जानना चाहिए। काशीपुर के दो अस्पतालों में अटल आयुष्मान योजना के नाम पर सरकार को चूना लगाया जा रहा था। स्वास्थ्य विभाग ने रामनगर रोड के एमपी अस्पताल और तहसील रोड स्थित देवकीनंदन अस्पताल में भारी अनियमितताएं पकड़ीं थी। जांच में पता चला कि दोनों अस्पतालों के संचालक रोगियों के फर्जी उपचार के बिल बना सरकार से क्लेम वसूल रहे थे। डिस्चार्ज होने के बाद भी रोगियों को अस्पताल में भर्ती बताकर क्लेम वसूला गया। एसएसपी कार्यालय के माध्यम से मामले की तहरीर एक हफ्ते पहले कोतवाली दफ्तर में पहुंच गई है। एक तहरीर 64 पन्नों की है, दूसरी में 24 पन्ने हैं। तहरीर में सब कुछ इतनी डिटेल में लिखा गया है कि ऑनलाइन एफआईआर दर्ज नहीं हो सकती। मोबाइल-कंप्यूटर ने कागज पर कलम चलाने की प्रैक्टिस भी छुड़ा दी है। इसीलिए पुलिसकर्मियों को एफआईआर लिखने में पसीने छूट रहे हैं। फिलहाल पुलिस का एफआईआर लिखो अभियान जारी है, चार दिन हो गए हैं, तीन दिन और लगेंगे। एक हफ्ते में एफआईआर लिख लिए जाने की उम्मीद है।


Uttarakhand News: Biggest fir writing in kashipur kotwali, against atal ayushman yojana fraud

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें