उत्तराखंड में कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, 10 साल की बच्ची से रेप के दोषी को सजा-ए-मौत

उत्तराखंड में 10 साल की मासूम संग हैवानियत कर उसकी हत्या करने वाले अभियुक्त जयप्रकाश को पोक्सो कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई...

Death sentence to the accused for misdeed and murder - dehradun sehespur case, death punishment, Dehradun news,  Uttarakhand news, उत्तराखंड लेटेस्ट न्यूज, सहसपुर पोक्सो एक्ट, पोक्सो कोर्ट देहरादून, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

देहरादून के सहसपुर में 10 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या करने वाले दोषी को पोक्सो कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई है। मासूम बच्ची का हत्यारा जयप्रकाश अब फांसी के फंदे पर झूलेगा। आरोपी युवक ने बच्ची के साथ दरिंदगी करने के बाद उसकी लाश को अपने ही कमरे में दफना दिया था। हत्या से पहले बच्ची को बुरी तरह यातनाएं दी गईं थी। दिल दहला देने वाली ये घटना जुलाई साल 2018 की है। सभावाला में रहने वाले एक परिवार की 10 साल की बच्ची अचानक गायब हो गई थी। परिजन उसकी तलाश कर रहे थे। तभी बच्ची के साथियों ने बताया कि एक आदमी ने बच्ची को दस रुपये देने का लालच देकर अपने कमरे में बुलाया था। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और घर में तलाशी लेनी शुरू कर दी। इसी बीच झोपड़ीनुमा घर में पुलिस को बच्ची की लाश मिल गई। आरोपी जयप्रकाश ने बच्ची संग रेप के बाद उसे मार दिया था। बच्ची की लाश उसने अपने कमरे में ही दफना दी थी। आरोपी जयप्रकाश यूपी के फैजाबाद का रहने वाला है। नए पोक्सो अधिनियम के तहत पोक्सो न्यायालय की न्यायाधीश रमा पांडे की अदालत ने दोषी को धारा 376, 377, 302 के तहत मौत की सजा सुनाई।

यह भी पढें - देहरादून रेलवे स्टेशन को शिफ्ट करने की तैयारी, शहर से 10 किलोमीटर दूर बनेगा
इस मामले में 11 गवाहों के बयानों को अहम सबूत माना गया। मृत बच्ची के हाथ में आरोपी के बाल और और 10 रुपये का नोट भी मिला था। डीएनए टेस्ट के आधार पर पोक्सो कोर्ट ने अभियुक्त जयप्रकाश को सभी धाराओं में दोषी पाया। उसे फांसी की सजा सुनाई। कोर्ट ने आरोपी जयप्रकाश पर 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। साथ ही देहरादून के डीएम को एक लाख रुपये पीड़ित परिवार को बतौर मुआवजा देने का आदेश दिया है। आपको बता दें कि पिछले एक साल में देहरादून के पोक्सो कोर्ट ने बच्चियों संग दरिंदगी और हत्या के 4 मामलों में सुनवाई की। चारों मामलों में 4 युवक दोषी पाए गए। सभी दोषी युवकों को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। अगस्त 2018 में ऋषिकेश के गुरुद्वारे में सेवादार परवान सिंह को दो मासूम बच्चियों संग रेप और दुष्कर्म का दोषी पाया गया था। इसके बाद त्यूणी में नाबालिग संग दुष्कर्म और हत्या की खबर आई। मामले में मोहम्मद अजहर को दोषी पाया गया। इसी साल नेहरु कॉलोनी में एक मासूम की रेप के बाद हत्या कर दी गई थी। आरोप राजेश नाम के युवक पर लगा। इन सभी मामलों में कोर्ट ने दोषियों को फांसी की सजा सुनाई।


Uttarakhand News: Death sentence to the accused for misdeed and murder

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें