Video: देवभूमि का परीलोक...लोग कहते हैं कि यहां आज भी दिखती हैं परियां..देखिए वीडियो

खैट पर्वत रहस्यों से भरा है, यहां परियां रहती हैं या नहीं ये तो नहीं पता, लेकिन यहां कुछ तो रहस्यमयी जरूर है....देखिए वीडियो

khaint parvat of uttarakhand tehri garhwal - उत्तराखंड, उत्तराखंड खैंट पर्वत, खैंट पर्वत परियां, खैंट पर्वत उत्तराखंड टिहरी गढ़वाल, खैंट पर्वत का रहस्य, Uttarakhand, Uttarakhand Khaint parvat, Khaint parvat Fairies, Khant parvat Uttarakhand Tehr, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

उत्तराखंड रहस्यों की भूमि है, यहां की धरती को देवलोक कहा जाता है, तो कहते हैं कि परियों का संसार भी यहीं पर बसता है। परियों के जो किस्से-कहानियां हमारे बचपन का हिस्सा हैं, वो यहां आकर सच लगने लगती हैं। पर्वतीय गांवों में परियों और इंसानों बीच पनपी प्रेम कहानियां भी जागर-पांवड़ों में खूब सुनने को मिलती हैं। ऐसी ही रहस्यमयी जगह है उत्तराखंड का खैट पर्वत, कहते हैं यहां आज भी परियां रहती हैं। यहां परियां हैं या नहीं ये तो नहीं पता, लेकिन यहां रहस्यमयी ताकतें जरूर बसती हैं, जिनके होने के सबूत यहां आज भी देखे जा सकते हैं। लोग यहां पर परियों और वन देवियों को देखने का दावा करते हैं। चलिए अब आपको रहस्यमयी खैट पर्वत के बारे में थोड़ी जानकारी और दे देते हैं। खैट पर्वत थात गांव के पास है, ये गुंबदाकार पर्वत है, जो कि दूसरे पर्वतों से काफी अलग दिखता है। यहां पहुंचने के लिए आपको पहले ऋषिकेश पहुंचना होगा। ऋषिकेश से थात गांव के लिए आपको सवारी गाड़ी मिल जाएगी। खैट पर्वत की यात्रा थात गांव से पैदल शुरू होती है।

यह भी पढें - केदारनाथ की भीम शिला...जिसने भीषण आपदा में मंदिर की रक्षा की..दुनिया झुकाती है सिर
खैट पर्वत समुद्रतल से दस हजार फीट की ऊंचाई पर है, यकीन मानिए ये जगह इतनी खूबसूरत है कि आपको सचमुच इस जगह के परिलोक होने का भान होने लगेगा। कहते हैं यहां वनदेवियां यानि परियां रहती हैं, जो कि आस-पास के गांवों की रक्षा करती हैं। परियों को यहां पर अंछरी भी कहा जाता है। थात गांव से करीब 5 किलोमीटर की दूरी पर खैटखाल मंदिर है। ये मंदिर खुद में कई रहस्यों को समेटे हुए है। इस मंदिर में परियों की पूजा होती है और जून में यहां पर विशाल मेला लगता है। यहां एक ऐसी गुफा है जिसके आदि-अंत का आज तक पता नहीं चल पाया। अगर आप खैट पर्वत जाना चाहते हैं तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। कहते हैं परियों को शोर-शराबा, तेज संगीत और चटकीले रंग पसंद नहीं हैं। तो अगर आप जून में कुछ नहीं कर रहे हैं तो खैट पर्वत की यात्रा पर चले आएं। जो लोग प्रकृति के साथ ही रोमांच का भी अनुभव करना चाहते हैं, उनके लिए खैट पर्वत किसी जन्नत से कम नहीं।

यह भी पढें - देहरादून का डाट काली सिद्धपीठ...अंग्रेज अफसर के सपने में आई थी मां काली..तब बना मंदिर
कहते हैं यहां आपको चलते-चलते अचानक परियां दिख जाती हैं। समय मिले तो देवभूमि के इस परिलोक की सैर पर जरूर आएं। हमने भी आपको खैट पर्वत के दर्शन कराने के लिए कुछ खास इंतजाम किए हैं। देखिए खैट पर्वत का ये वीडियो, इसे देख आप भी इस परिलोक की सैर पर जरूर आना चाहेंगे....

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Uttarakhand News: khaint parvat of uttarakhand tehri garhwal

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें