डीएम दीपक रावत की बड़ी कार्रवाई, हरिद्वार में प्रदूषण फैलाने वाली 7 बड़ी फैक्ट्रियां सील

हरिद्वार में प्रदूषण फैला रही फैक्ट्रियों के खिलाफ डीएम दीपक रावत बड़ी कार्रवाई की। पीसीबी के नियमों को ना मानने वाली 7 फैक्ट्रियों को सील कर दिया गया।

7 factories sealed in haridwar dm deepak rawat - डीएम दीपक रावत, जिलाधिकारी दीपक रावत, प्रदूषण, सिडकुल, बहादराबाद, भगवानपुर, DM Deepak Rawat, SIDCUL, Bahadarabad, Bhagwanpur, Pollution, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

भई डीएम हो तो हरिद्वार के डीएम दीपक रावत जैसा...भ्रष्टाचारियों के खिलाफ डीएम दीपक रावत ने ऐसे सख्त कदम उठाए हैं, कि अब दीपक रावत का नाम सुनते ही भ्रष्ट कारोबारियों-अफसरों की नींद उड़ जाती है। डीएम रावत अपने नए-नए कारनामों से अक्सर सुर्खियों में बने रहते हैं, हाल ही में डीएम दीपक रावत ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों का पालन ना करने वाली औद्योगिक इकाइयों पर शिकंजा कसा। जिलाधिकारी दीपक रावत के नेतृत्व में गठित टीम ने प्रदूषण फैला रही हरिद्वार की 7 फैक्ट्रियों को सील कर दिया, जिनमें सिडकुल की दो, बहादराबाद की 3 और भगवानपुर की दो औद्योगिक इकाइयां शामिल हैं। जिन फैक्ट्रियों के खिलाफ कार्रवाई हुई उनमें सिडकुल के शारदा मोटर्स इंडस्ट्रीज, स्टार इंडस्ट्रीज, बहादराबाद की श्री मेटल फिनिशर, वीटी ऑटो, बेगमपुर स्थित माइक्रो टर्नर और भगवानपुर की अविना मिल और पीएस इंडस्ट्रीज शामिल हैं।

यह भी पढें - उत्तराखंड के तेज-तर्रार DM दीपक रावत को हाईकोर्ट की फटकार, कोर्ट में पेश होने के आदेश
बता दें कि हाईकोर्ट इस मामले में पहले ही नाराजगी जता चुका है, यही वजह है कि पीसीबी के मानकों का पालन ना करने वाली फैक्ट्रियों के खिलाफ जिला प्रशासन सख्ती बरत रहा है। राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के निर्देश पर शुक्रवार दोपहर जिलाधिकारी दीपक रावत, उप जिलाधिकारी कुसुम चैहान और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी एसपी सिंह के साथ सिडकुल स्थित शारदा मोटर्स पहुंचे, यहां मानकों का खुलेआम उल्लंघन हो रहा था, जिसके बाद फैक्ट्री सील कर दी गई। इसके बाद टीम पहुंची स्टार इंडस्ट्रीज वहां भी हाल बुरे मिले, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों का पालन न करने पर डीएम ने उसे सील करा दिया। बहादराबाद औद्योगिक क्षेत्र में छापा मारने पहुंची टीम ने देखा की फैक्ट्री के अंदर प्रदूषण कंट्रोल करने के उपकरणों ही नहीं थे, यहां पर भी फैक्ट्रियों को सील किया गया। टीम ने श्री मेटल फिनिशर, विटी आटो और सलेमपुर बेगमपुर स्थित माइक्रो टर्नर को कार्रवाई के क्रम में सील करा दिया। भगवानपुर क्षेत्र की दो फैक्ट्रियों अविना मिल्स और पीएस इंडस्ट्रीज को भी प्रदूषण फैलाने के चलते सील कर दिया। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड रुड़की के क्षेत्रीय अधिकारी एसपी सिंह ने बताया कि कुल सात फैक्ट्रियों को सील किया गया है। इसमें भगवानपुर में अविना मिल्क और पीएस इंडस्ट्रियल भी शामिल है। अविना मिल्क में दूध और दूध के उत्पाद बनते हैं। जबकि पीएस इंडस्ट्रियल में ऑटो पाटर्स तैयार किए जाते हैं। यह दोनों ही कंपनियां प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों को पूरा नहीं कर रही थी। डीएम दीपक रावत ने हैरानी जताई कि सालों से ये फैक्ट्रियां पीसीबी के नियमों को धता बताकर मुनाफा कमा रही हैं, लेकिन पीसीबी अधिकारियों ने इसे रोकने के लिए अब तक गंभीर प्रयास नहीं किए....खैर देर से ही सही डीएम दीपक रावत के जगाने पर पीसीबी के अधिकारी जाग गए हैं, इतना ही काफी है..उम्मीद है आगे भी प्रदूषण फैलाकर मुनाफा कुटने वाले धंधेबाजों के खिलाफ इसी तरह कार्रवाई की जाती रहेगी।


Uttarakhand News: 7 factories sealed in haridwar dm deepak rawat

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें