उत्तराखंड पुलिस की निगरानी से तीन पुलिसवाले फरार...1 करोड़ कैश लूटने का है आरोप

कानून व्यवस्था के उत्तरांड में क्या हाल हैं ? इस दावे की चीर फाड़ करती ये खबर हर किसी को हैरान कर सकती है।

accused of loot absconded from police line dehradun - उत्तराखंड, उत्तराखंड पुलिस, उत्तराखंड 1 करोड़ लूट, देहरादून पुलिस लाइन, निवेदिता कुकरेती, देहरादून पुलिस, उत्तराखंड न्यूज,Uttarakhand, Uttarakhand police, Uttarakhand 10 million loot, Dehradun police, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

याद तो होगा आपको कि कुछ दिन पहले उत्तराखंड में तीन पुलिसकर्मियों पर एक करोड़ रुपये की लूट का आरोप लगा था। आचार संहिता का डर दिखाकर पुलसवालों ने अनुरोध पंवार नाम के शख्स से 1 करोड़ रुपये लूटे थे। इसके बाद मुकदमा दर्ज कराया गया तो तीनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था। तीनों आरोपी पुिसकर्मियों को देहरादून पुलिस लाइन में नजरबंद रखने का दावा किया गया था। लेकिन सबसे हैरानी की बात तो ये है कि वो तीनों पुलिसवाले पुलिस की ही नाम के नीचे से फरार हो गए हैं। ये है पुलिस की कड़ी निगरानी का खोखला दावा ? इस मामले का पता जब अफसरों को चला तो हड़कंप मच गया। खबर विस्तार से जानने की कोशिश कीजिए। दरअसल 4 अप्रैल की रात देहरादून के प्रॉपर्टी डीलर अनुरोध पंवार से 1 करोड़ रुपये की रकम की लूट हुई थी। हैरानी की बात ये है कि गढ़वाल के पुलिस महानिरीक्षक अजय रौतेला की सरकारी स्कार्पियो में सवार तीन पुलिस कर्मियों ने ही ये रकम लूटी थी। इसके बाद मामले की जांच की गई तो एकदम सही पाया गया।

यह भी पढें - उत्तराखंड पुलिस पर दाग..1 करोड़ लूट मामले की जांच करेगी STF..सियासत से जुड़े तार!
10 अप्रैल को डालनवाला कोतवाली में बकायदा लूट का केस दर्ज कराया गया था। तीनों पुलिस कर्मियों दिनेश नेगी, मनोज अधिकारी और हिमांशु उपाध्याय को निलंबित किया गया था। इसके बाद तीनों को पुलिस लाइन में रखा गया था और निगरानी बढ़ा दी गई थी। ऐसा इसलिए क्योंकि तीनों ही पुलिस लाइन से बाहर कदम ना रख सकें। ताज़ा मामले के मुताबिक शनिवार की सुबह पुलिस लाइन में रोज की तरह सभी की गणना चल रही थी। इस दौरान तीनों ही वहां नहीं मिले। मोबाइल फोन पर संपर्क साधने की कोशिश की गई लेकिन मोबाइल स्विच ऑफ मिले। परिजनों से भी पूछताछ की गई, लेकिन इस बारे में किसी तरह की जानकारी नहीं मिल पाई। पहले हाई प्रोफाइल लूट कांड की साजिश रचने वाला कथित आरोपी फरार हो गया और अब पुलिसवाले ही फरार हो गए। तो सवाल ये है कि क्या उत्तराखंड पुलिस की सतर्कता सिर्फ सोशल मीडिया तक ही सीमित है ? आखिर ऐसी क्या बात है ? क्या किसी बड़े चेहरे को बचाने की कोशिशें की जा रही हैं ? इस मामले में जांच अब एसटीएफ को दी गई है यानी कुछ न कुछ बड़ा मामला तो है। क्या इन पुलिसकर्मियों को भागने का मौके जान-बूझकर दिया गया है?


Uttarakhand News: accused of loot absconded from police line dehradun

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें