पहाड़ में होमगार्ड जवान की बेदर्दी से हत्या..फारेंसिक टीम की जांच में हुए बड़े खुलासे

जिस होमगार्ड के जवान की उत्तराखंड में लाश मिली है। उस बारे में फारेंसिक टीम की जांच में कुछ खुलासे हुए हैं। आप भी जानिए।

HOME GUARD JAWAN MURDER IN UTTARAKHAND - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, ब्रेकिंग न्यूज उत्तराखंड, बड़ी खबर उत्तराखंड, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Breaking News Uttarakhand, Big News Uttarakha, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

वो जान चुनाव पर ड्यूटी में तैनात था...लेकिन उसके बाद कभी घर वापस नहीं लौटा। कालाढूंगी के रहने वाले होमगार्ड हेमचंद्र अचानक गायब हो गए थे। उनकी लाश को जंगलों से बरामद किया गया। अब फॉरेंसिक टीम की जांच कहती है कि होमगार्ड हेम चंद्र की बड़ी बेदर्दी से हत्या की गई थी। जी हां इस मामाले की जांच के लिए अल्मोड़ा से फोरेंसिक टीम आई और जांच में ये बातें सामने आई है। आपको जानकर हैरानी होगी कि करीब 1 किलोमीटर तक खून के छींटे नज़र आए हैं। माना जा रहा है कि होमगार्ड हेम चंद्र को हत्यारे घसीटते हुए ले गए होगे। इसके बाद एक पेड़ पर उसकी पैंट से उसका गला बांध दिया गया। सीओ आरएस रौतेला ने इस बारे में कहा है कि हत्या की वजह अब तक पता नहीं चली है, मामले की जांच जारी है। होमगार्ड हेमचंद्र कालाढूंगी, धमोला क्षेत्र के ग्राम भीमपुरी जिला नैनीताल का रहने वाला था। इस केस में कुछ जरूरी बातें भी हैं। इनके बारे में आगे पढ़िए।

यह भी पढें - देहरादून में हड़कंप: प्रेमी ने प्रेमिका गला काटा, फिर लाश के सामने दे दी जान !
हेमचंद्र की मौत की खबर मिलते ही घर में कोहराम मच गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। हेमचंद्र के दो छोटे बच्चे हैं, जिन्हें पालने की जिम्मेदारी अब उसकी पत्नी पर आ गई है। होमगार्ड की पत्नी कमला देवी भीमपुरी स्थित आंगनबाड़ी केंद्र में सहायिका है। पिता विशन राम कालाढूंगी किसान सेवा सहकारी समिति में सरकार से नामित सदस्य हैं। मामला डीडीहाट विधानसभा क्षेत्र का है, जहां 45 साल के होमगार्ड हेमचंद्र की मतदान के लिए ड्यूटी लगी हुई थी। बताया जा रहा है कि होमगार्ड हेमचंद्र कनालीछीना स्थित नैनी बूथ पर तैनात था। गुरुवार को मतदान प्रक्रिया खत्म होने के बाद जब अधिकारियों ने बूथ पर तैनात कर्मचारियों को बुलाया तो हेमचंद्र गायब मिला। अधिकारियों और दूसरे कर्मचारियों ने हेमचंद्र की खूब तलाश की, लेकिन उसका कोई पता नहीं चला। इससे महकमे में हड़कंप मच गया। पीठासीन अधिकारी कैलाश कुमार और सेक्टर मजिस्ट्रेट आशीष पुनेठा ने कनालीछीना थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई।

यह भी पढें - देहरादून: 20 साल छोटे प्रेमी के प्यार में पागल हुई महिला, अपने पति को ही मार डाला
इस पर एसओ अशोक धनगढ़ ने पुलिस टीक के साथ नैनी और गोवर्सा के जंगलों में छानबीन की, लेकिन हेमचंद्र का कोई पता नहीं चल पाया। आपको बता दें कि नैनी बूथ कनालीछीना से केवल दो किलोमीटर दूर है और जंगल के किनारे है। पुलिस को लगा कि होमगार्ड हेमचंद्र शायद चट्टान से फिसल गया होगा।इसके बाद भी पुलिस उसकी तलाश में जुटी रही, लेकिन जब उसका कहीं पता नहीं चल पाया तो शुक्रवार को एसओ धनगढ़ और एसडीआरएफ की टीम ने फिर से गोवर्सा और नैनी के जंगलों में कांबिंग अभियान चलाया। शाम को होमगार्ड हेम चंद्र का शव नैनी के जंगल से बरामद किया गया। जंगल में होमगार्ड हेम चंद्र की लाश जिस हालत में मिली उसे देख पुलिसवाले भी सन्न रह गए। हेमचंद्र के पूरे शरीर पर चोट के निशान थे। पुलिस ने होमगार्ड की हत्या की आशंका जताई है। फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने का इंतजार है, रिपोर्ट आने के बाद ही हेमचंद्र की मौत की वजह पता चल पाएगी। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। फिहाल इस खबर के बाद से उत्तराखंड में हड़कंप मचा हुआ है।


Uttarakhand News: HOME GUARD JAWAN MURDER IN UTTARAKHAND

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें