उत्तराखंड पुलिस पर दाग..1 करोड़ लूट मामले की जांच करेगी STF..सियासत से जुड़े तार!

हो सकता है कि इस बार हुआ खुलासा उत्तराखंड पुलिस के साथ साथ नेताओं के भी पसीने छुड़ा सकता है। 1 करोड़ की लूट मामले की जांच अब STF करेगी।

UTTARAKHAND DEHRADUN LOOT CASE TO STF - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, ब्रेकिंग न्यूज उत्तराखंड, उत्तराखंड बड़ी खबर, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, breaking news Uttarakhand, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

देहरादून में आचार संहिता का डर दिखाकर प्रॉपर्टी डीलर से करोड़ों की लूट के मामले में खाकी पर तो सवाल उठ ही रहे हैं, साथ ही सूबे के कुछ सियासतदानों के भी चेहरे बेनकाब हो सकते हैं। आपको बता दें कि राजपुर रोड पर आचार संहिता का डर दिखाकर दरोगा और पुलिसकर्मियों ने प्रॉपर्टी डीलर अनुरोध पंवार से नोटों से भरा बैग लूट लिया था। बैग में करीब एक करोड़ रुपये रखे हुए थे। करोड़ों की लूट के लिए दरोगा और पुलिसकर्मियों को क्या सिर्फ मोहरे की तरह इस्तेमाल किया गया था? क्या कांग्रेस नेता अनुपम शर्मा पर STF को शक है? बताया जा रहा है कि इस मामले में प्रापर्टी डीलर अनुरोध पंवार ने कांग्रेस नेता अनुपम शर्मा को आरोपी बनाया है। आरोप है कि अनुपम शर्मा ने ही अनुरोध पंवार को फोन कर पेमेंट देने के लिए क्लब बुलाया था। अब तक की जांच में अनुपम शर्मा के खिलाफ कई सबूत जुटाए हैं। कुछ कॉल डिटेल से भी इस बात का खुलासा हुआ है और इस वजह से अनुपम शर्मा पर शक की सुई है।

यह भी पढें - देहरादून: परेड ग्राउंड में दारू पीकर धुत पड़ी मिली लड़की...मचा हड़कंप
सूत्रों की मानें तो जिस दिन ये घटना हुई उस वक्त आरोपी अनुपम शर्मा दरोगा के पुलिस लाइन स्थित आवास पर मौजूद था। यहां से दोनों साथ में डब्ल्यूआईसी क्लब पहुंचे और साथ में खाना भी खाया। इस मामले में क्योंकि एक दरोगा भी आरोपी है, इसीलिए पुलिस ने पूरे मामले में अनुपम शर्मा की घेराबंदी शुरू कर दी है। लूट में आईजी की गाड़ी का इस्तेमाल हुआ था। एसटीएफ एक-दो दिन में अनुपम को बयान दर्ज कराने को बुला सकती है। इस मामले में अनुरोध पंवार ने सीधे तौर पर अनुपम शर्मा को आरोपी बनाया है। उन्होंने फेसबुक के जरिए तीन आरोपी पुलिसकर्मियों की भी पहचान की। पंवार का आरोप है कि अनुपम शर्मा ने ही उन्हें फोन कर के क्लब में बुलाया था, जहां क्लब के मैनेजर ने उन्हें नोटों से भरा बैग दिया था। डब्लूआईसी से बाहर निकलने के कुछ देर बाद ही पुलिसकर्मियों ने पंवार से नोटों भरा बैग लूट लिया था। डालनवाला पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कई सबूत जुटाए हैं।

यह भी पढें - उत्तराखंड: लड़के ने पहले सेल्‍फी ली...फिर प्रेमिका को वॉट्सएप किया और खुदकुशी कर ली
उधर देहरादून के इस लूटकांड के बाद राजनीति भी तेज हो गई है। बीजेपी का कहना है कि मामले में सख्त से सख्त कार्रवाई होकर रहेगी। इसके साथ ही बीजेपी का कहना है कि इस बार कई बड़े चेहरों पर से पर्दा उठेगा। वहीं कांग्रेस का कहना है कि उसे जांच से कोई परहेज नहीं है। कांग्रेस का ये भी कहना है कि अबतक आरोपियों की गिरफ्तारी क्यों नहीं हो पाई ? कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि अबतक किसी आरोपी की गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई और इसकी जवाबीदेही किसकी है? वहीं बीजेपी प्रवक्ता मुन्ना सिंह चौहान का कहना है कि अगर वर्दीधारी इस तरह की घटनाएं करेंगे तो इसे बहुत दुखद कहा जाएगा...इसमें सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। सवाल ये भी तो है कि आखिर इस मामले में अब तक पुलिस क्यों खामोश है ?


Uttarakhand News: UTTARAKHAND DEHRADUN LOOT CASE TO STF

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें