जय देवभूमि: रेस्टोरेंट चालक के बेटे को कनाडा में मिली नौकरी..1 करोड़ का सालाना पैकेज

देवभूमि के प्रतिभाशाली छात्र सचिन सनवाल का चयन कनाडा की बहुराष्ट्रीय कंपनी ऐरोफ्लोट एविएशन के लिए हुआ है।

Story of sachin sanwal of uttarakhand - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, सचिन सनवाल, नैनीताल, नैनीताल न्यूज, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Sachin Sunwal, Nainital, Nainital News, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

कोशिश अगर सच्ची हो और लगन पक्की तो सफलता जरूर मिलती है। पहाड़ के प्रतिभाशाली बेटे जब अपने हुनर का लोहा मनवाते हैं तो अच्छा लगता है। नैनीताल के भीमताल में रहने वाले सचिन सनवाल ऐसे ही प्रतिभाशाली बेटे हैं, जिनका चयन हाल ही में कनाडा की बहुराष्ट्रीय कंपनी ऐरोफ्लोट एविएशन के लिए हुआ है। उन्हें सालाना एक करोड़ का पैकेज मिला है। सचिन की ये उपलब्धि इसलिए भी महत्वपूर्ण हो जाती है, क्योंकि वो मध्यमवर्गीय पहाड़ी परिवार से हैं। उनके पिता मोहन सनवाल घर खर्च चलाने के लिए रेस्टोरेंट चलाते हैं, लेकिन उन्होंने अपनी आर्थिक मजबूरियों को कभी सचिन की पढ़ाई के आड़े नहीं आने दिया। सचिन सनवाल बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ अप्लाइड साइंसेज भीमताल के बीटेक चतुर्थ वर्ष के छात्र हैं। कनाडा की कंपनी उन्हें सालाना 1 करोड़ रुपये का पैकेज देगी। कंपनी ने उन्हें सालाना पैकेज के साथ अन्य व्यय देने का नियुक्ति पत्र भेजा है। सचिन की इस उपलब्धि से उनके परिवार वाले गदगद हैं, संस्थान के निदेशक डॉ.बीएस बिष्ट ने भी उनके माता-पिता को कॉलेज बुलाकर बधाई दी। उन्होंने बताया कि सचिन मेधावी छात्र है और जॉब के लिए कड़ी मेहनत कर रहा था।

यह भी पढें - देवभूमि के वीर सपूत का निधन, भारत-पाक युद्ध में पराक्रम के लिए मिला था वीरता चक्र
सचिन के सपनों को पंख लग चुके हैं, जल्द ही वो कनाडा में जॉब ज्वाइन करेंगे। इन दिनों सचिन पासपोर्ट और वीजा बनाने की तैयारी में जुटे हैं। सचिन बताते हैं कि उनका चयन ऐरोफ्लोट एविएशन की कास्केड एयरोस्पेस के लिए हुआ है। कंपनी का मुख्यालय 1337 टाउन लाइन रोड अबोटसफोड, बीसी कनाडा में है। सचिन ने जॉब के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था, जिसके बाद उनका ऑनलाइन इंटरव्यू हुआ। सचिन ने अपनी सफलता का श्रेय अपने परिजनों और शिक्षकों को दिया है। उन्होंने बताया कि वो घर पर नियमित तौर पर छह घंटे पढ़ाई करते हैं। इसके साथ ही अंग्रेजी सुधारने के लिए भी उन्होंने काफी मेहनत की। आपको बता दें कि इससे पहले भी कॉलेज के छात्र मुनीर खान का सेलेक्शन लैब स्विट्जरलैंड में वैज्ञानिक के पद पर हो चुका है। दोनों छात्रों की डिग्री जून-2019 में पूरी हो जाएगी। इन दिनों दोनों छात्रों को बधाई देने वालों का तांता लगा है।


Uttarakhand News: Story of sachin sanwal of uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें