देवभूमि की बेटी ने इंग्लैंड में दिखाया जलवा, मिसेज यूके प्रतियोगिता के फाइनल में पहुंची

अच्छा लगता है जब पहाड़ की बेटियां विदेश में जाकर भी पहाड़ की वेशभूषा का प्रदर्शन करती हैं। मिसेज यूके प्रतियोगता के फाइनल में ऐसा ही देखने को मिला है।

STORY OF SAUMYA PANT OF ALMORA - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, सौन्या पंत, अल्मोड़ा, अल्मोड़ा न्यूज, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Saunaya Pant, Almora, Almora News, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

पहाड़ी संस्कृति और यहां की वेशभूषा लाजवाब है। यहां के पारंपरिक परिधान महिलाओं की खूबसूरती को और बढ़ा देते हैं। पहाड़ी संस्कृति की ऐसी ही झलक इंग्लैंड में आयोजित मिसेज यूके प्रतियोगिता में देखने को मिली। कलर्स टीवी की तरफ से आयोजित इस कंपटीशन में हिस्सा ले रहीं उत्तराखंड मूल की सौम्या पंत जब पीले रंग के पिछौड़े और पारंपरिक कुमाऊंनी गहने पहन कर रैंप पर चलीं....तो दर्शक उन्हें देखते ही रह गए। हर कोई उनकी तारीफ करता नजर आया। दरअसल इंग्लैंड में इन दिनों मिसेज यूके प्रतियोगिता का फाइनल राउंड आयोजित किया जा रहा है। प्रतियोगिता का आयोजन कलर टीवी की तरफ से किया गया, जिसमें उत्तराखंड मूल की सौम्या पंत भी हिस्सा ले रही हैं। कंपटीशन में सौम्या पंत कुमाऊं के पारंपरिक परिधान में रैंप वॉक करते नजर आईं, और विदेशियों को उत्तराखंड की संस्कृति से रूबरू कराया। इस फािनल के रिजल्ट की घोषणा अप्रैल में होगी।

यह भी पढें - ढोल-दमाऊं: देवभूमि को शिवजी का वरदान...जानिए इस सदियों पुराने वाद्ययंत्र का इतिहास
सौम्या अल्मोड़ा के रानीधारा की रहने वाली हैं। अल्मोड़ा के लोग विदेश मे बसी पहाड़ की बेटी को शुभकामनाएं दे रहे हैं, उनकी जीत के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। सौम्या पंत पिछले दस साल से लंदन में रहती हैं, वो वहां एक प्रतिष्ठित कंपनी में एचआर डिपार्टमेंट में हेड के पद पर कार्यरत हैं। मूलरूप से रानीधारा की रहने वाली सौम्या के पिता वैज्ञानिक डॉ. सुबोध कुमार पंत पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान से सेवानिवृत्त हैं। कुमाऊंनी संस्कृति में पली-बढ़ी सौम्या ने जनवरी महीने में कलर टीवी के मिसेज इंडिया यूके की प्रतियोगिता में 30 फाइनल प्रतियोगियों के बीच जगह बनाई। इन दिनों इंग्लैंड में प्रतियोगिता का फाइनल राउंड आयोजित हो रहा है, जिसमें सौम्या ने भी हिस्ला लिया। अप्रैल के पहले पखवाड़े में विजेता की घोषणा की जाएगी। विदेश में रहकर भी अपनी संस्कृति को ना भूलने वाली पहाड़ की बेटी सौम्या को प्रतियोगिता के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं।


Uttarakhand News: STORY OF SAUMYA PANT OF ALMORA

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें