उत्तराखंड की इस पावन जगह पर हुआ था गणेश जी का जन्म..देखिए खूबसूरत तस्वीरें

माना जाता है कि भगवान गणेश का जन्म यहीं हुआ था वैसे भी कहा गया है कि शिव-परिवार का नाता ही उत्तराखंड से ही है।

Dodital uttarakhand - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, डोडीताल, डोडीताल उत्तराखंड, उततराखंड टूरिज्म, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Dodital, Doodil Uttarakhand, Uttarakhand Tour, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

क्या आप कभी उत्तरकाशी क्षेत्र के कैलसू (कैलासू) क्षेत्र गए हैं ? यहां सदियों से एक गीत गाया जाता है और लोग ये मंगल गीत लगाकर पारंपरिक नृत्य करते हैं। इस गीत के बोल हैं ‘गणेश जन्‍मभूमि डोडीताल कैलासू, असी गंगा उद्गम अरू माता अन्‍नपूर्णा निवासू।।’ यहां गणेश भगवान को सदियों से स्‍थानीय बोली में डोडी राजा कहा जाता है। स्कंद पुराण के केदारखंड से पता चलता है कि गणेश जी का प्रचलित नाम डुंडीसर भी है, जिसे डोडीताल से ही लिया गया है। ये दिव्य स्थान उत्तरकाशी जिले में संगम चिट्टी से लगभग 23 किलोमीटर दूर स्थित है। मान्यता है कि जब मां पार्वती यहां पर स्नान करने के लिए गयी थीं तो उन्होंने अपने उबटन से एक बालक की प्रतिमा का निर्माण कर उसमें प्राण डाल दिये, यहीं पर भगवान गणेश की उत्पत्ति हुई। इसी का वर्णन स्कन्द पुराण के केदार खंड में किया गया है। आगे देखिए खूबसूरत तस्वीरें

1/5 शिव के संपूर्ण परिवार का संबंध ही उत्तराखंड से है
Dodital uttarakhand ONE

सिर्फ डोडीताल ही नहीं भगवान शिव के संपूर्ण परिवार का संबंध ही उत्तराखंड से है। त्रियुगीनारायण मंदिर में भगवान शिव और मां पार्वती का विवाह हुआ। मां पार्वती यानी मां नंदा का मायका उत्तराखंड में कहा जाता है और इसलिए हर 12 साल बाद नंदा देवी राजजात यात्रा होती है।

2/5 डोडीताल में मां अन्नपूर्णा का सदियों पुराना मंदिर है।
Dodital uttarakhand TWO

शिव और पार्वती के पुत्र कार्तिकेय का सीधा संबंध कार्तिक स्वामी मंदिर से है, तो भगवान गणेश का सीधा संबंध डोडीताल से है। यहां तक कि गणेश जी सिर कटने की कहानी का सीधा संबंध पाताल भुवनेश्वर गुफा से है और ये भी उत्तराखंड में ही है। कहते हैं भगवान गणेश का जन्म डोडीताल मे हुआ था।

3/5 भगवान गणेश का जन्म डोडीताल मे हुआ था।
Dodital uttarakhand THREE

डोडीताल में मां अन्नपूर्णा का सदियों पुराना मंदिर है। मान्यता है कि विघ्न विनाशक भगवान गणेश डोडीताल के अन्नपूर्णा मंदिर मे मां के साथ आज भी निवास करते हैं।चारों धामों की तरह ही मां अन्नपूर्णा मंदिर के कपाट खुलने भी विधि-विधान से खुलते हैं।

4/5 डोडीताल क्षेत्र मध्‍य कैलाश में आता था
Dodital uttarakhand FOUR

खास बात ये है कि डोडीताल में मां अन्नपूर्णा के कपाट गंगोत्री और यमुनोत्री धाम से पहले खुलते हैं। जानकार कहते हैं कि डोडीताल क्षेत्र मध्‍य कैलाश में आता था और ये ही स्थल मां पार्वती का स्‍नान स्‍थल था।

5/5 डोडीताल को गणेश का जन्‍मस्‍थल कहा है
Dodital uttarakhand FIVE

स्‍वामी चिद्मयानंद के गुरु रहे स्‍वामी तपोवन ने अपनी किताब हिमगिरी विहार में भी डोडीताल को गणेश का जन्‍मस्‍थल कहा है। मुद्गल ऋषि के द्वारा लिखे गए मुद्गल पुराण में भी इस बात का जिक्र किया गया है।


Uttarakhand News: Dodital uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें