कुमाऊं रेजीमेंट की आराध्य देवी, जिसने कई युद्धों में की जवानों की रक्षा..देखिए तस्वीरें

सेना की एक वीर रेजीमेंट..जिसकी आराध्य मां हाट कालिंका है। ये बात उतनी ही सच है जितनी की सेना के जवानों की मां को लेकर आस्था। जय मां हाट कालिंका

Hat kalika maa story and photos - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखं न्यूज, हाट कलिंका मां, कुमाऊं रेजीमेंट, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Hat Kalinka Maa, Kumaon Regiment, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

पिथौरागढ़ जिले का गंगोलीहाट में स्थापित हाट कालिका एक शक्तिपीठ है। जो उत्तराखंड के लोगों के ही नहीं बल्कि मां शक्ति में विश्वास रखने वाले भक्तों के बीच भी काफी प्रसिद्ध है। पहाड़ों के बीच बने इस मंदिर में सालभर मां के दर्शनों के लिए लोगों का तांता लगा रहता है। खासकर सेना के जवान यहां दर्शनों के लिए आते रहते हैं। हाट कलिका देवी रणभूमि में गए जवानों की रक्षक मानी जाती है। यहां मंदिर की घंटियों में किसी न किसी आर्मी अफसर या जवान का नाम मिल जाएगा। मंदिर में साल भर आम लोगों के अलावा कुमाऊं रेजीमेंट के जवान और अफसर भी माथा टेकने पहुंचते है। कुमाऊं रेजीमेंट के हाट कालिका की देवी को अपना अराध्य मानने के पीछे एक बड़ी ही दिलचस्प कहानी है। कहा जाता है कि द्वितीय विश्वयुद्ध (1939-1945) के दौरान भारतीय सेना का जहाज डूबने लगा। आगे पढ़िए..

1/5 कुमाऊं के सैनिकों ने हाट काली का जयकारा लगाया
Hat kalika maa story and photos  one

तब सेना के अधिकारियों ने जवानों से अपने-अपने भगवान को याद करने का कहा। लेकिन सब के सामने चमत्कार तब हुआ जब कुमाऊं के सैनिकों ने हाट काली का जयकारा लगाया और वैसे ही जहाज किनारे आ गया। इस घटना के बाद से कुमाऊं रेजीमेंट ने मां काली को आराध्य देवी की मान्यता दे दी।

2/5 हर साल माघ महीने में यहां पर सैनिकों की भीड़ लग जाती है।
Hat kalika maa story and photos two

उस वक्त से मौजूदा वक्त तक जब भी कुमाऊं रेजीमेंट के जवान युद्ध या किसी भी मौर्चें के लिए जाते हैं तो काली मां के दर्शन करना नहीं भूलते है। हर साल माघ महीने में यहां पर सैनिकों की भीड़ लग जाती है। मंदिर से जुड़ाव का एक और वाक्या है 1971 का जब, भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ और 16 दिसंबर को पाकिस्तानी सेनाके एक लाख जवानों ने भारतीय सेना के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

3/5 हाट कालिका के मंदिर में मां की मूर्ति
Hat kalika maa story and photos three

कालिका के नाम से विख्यात गंगोलीहाट के महाकाली मंदिर का भी गहरा नाता रहा है। कुमाऊं रेजीमेंट ने पाकिस्तान के साथ लड़ाई खत्म होने के बाद गंगोलीहाट में अपने जवानों की टुकड़ी भेजी। गंगोलीहाट के कनारागांव निवासी सूबेदार शेर सिंह के नेतृत्व में यहां आई सैन्य टुकड़ी ने हाट कालिका के मंदिर में मां की मूर्ति की चढ़ाई।

4/5 कालिका के मंदिर में शक्ति पूजा का विधान है
Hat kalika maa story and photos four

सेना द्वारा स्थापित ये मूर्ति मंदिर की पहली मूर्ति थी। कालिका के मंदिर में शक्ति पूजा का विधान है। इसके बाद 1994 में कुमाऊं रेजीमेंट ने ही मंदिर में महाकाली की बड़ी मूर्ति चढ़ाई है। बता दे कि कुमाऊं रेजीमेंटल सेंटर रानीखेत के साथ ही रेजीमेंट की बटालियनों में हाट कालिका के मंदिर स्थापित हैं।

5/5 बड़े आर्मी के अफसर भी आकर नतमस्तक होते है
Hat kalika maa story and photos five

द्वितिय विश्व युद्ध के दौरान हाट कालिका से जुड़ा कुमाऊं रेजीमेंट का रिश्ता आज भी सेना के जवान पूरी श्रद्दा के साथ निभाते है। जवान ही नहीं यहां बड़े बड़े आर्मी के अफसर भी आकर नतमस्तक होते है।


Uttarakhand News: Hat kalika maa story and photos

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें