इस बार उत्तराखंड में बनेगा इतिहास, 3140 मीटर की ऊंचाई पर पहली बार बना पोलिंग बूथ

उत्तराखंड के लिए ये चुनाव बेहद खास है, ये पहला मौका है जब गंगोत्री धाम में ही वोटिंग होगी। लोगों को वोट डालने के लिए 29 किलोमीटर दूर मुखवा नहीं जाना पड़ेगा।

Polling booth at gangotri dham - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, गंगोत्री, गंगोत्री धाम, गंगोत्री वोटिंग, गंगोत्री पोलिंग बूथ, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Gangotri, Gangotri Dham, Gang, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

प्रसिद्ध गंगोत्री धाम के लोगों और यहां तप कर रहे साधुओं के लिए ये लोकसभा चुनाव बेहद खास होगा। ये पहला मौका होगा जबकि यहां के लोगों और पिछले 30 साल से यहां तप कर रहे साधुओं को वोट डालने के लिए 29 किलोमीटर की दूरी तय कर मुखवा नहीं जाना पड़ेगा। निर्वाचन आयोग ने पहली बार गंगोत्री में पोलिंग बूथ बनाया है। जिसके बाद गंगोत्री के लोग यहां रह कर लोकतंत्र के महापर्व मे अपना योगदान दे सकेंगे और वोट डाल सकेंगे। 3140 मीटर की ऊंचाई पर गंगोत्री धाम में पहली बार पोलिंग बूथ बनाने का फैसला लिया गया है। ये उत्तराखंड का सबसे ऊंचाई वाला पोलिंग बूथ है, जहां मतदाता सूची में 45 वोटर्स के नाम दर्ज हैं। गंगोत्री क्षेत्र टिहरी संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है, इसे नगर पंचायत का दर्जा तो मिला है, लेकिन वोटर्स की संख्या कम होने की वजह से यहां कभी भी निकाय चुनाव नहीं हुए।

यह भी पढें - रुद्रप्रयाग में फरिश्ता बनकर आई पुलिस, नदी में बह रहे बुजुर्ग को बचा लिया
अब तक हुए लोकसभा, विधानसभा और पंचायत चुनाव में भी यहां कभी मतदान केंद्र नहीं बनाया गया। अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के लिए यहां के लोगों को 29 किलोमीटर की दूरी तय कर मुखवा आना पड़ता था, जो कि मां गंगा का शीतकालीन पड़ाव माना जाता है। निर्वाचन आयोग मतदान प्रतिशत बढ़ाने की कवायद में जुटा है, इसी कड़ी में इस बार गंगोत्री में पोलिंग बूथ बनाया गया है, ताकि कोई भी मतदाता मतदान से वंचित ना रहे। जिला निर्वाचन अधिकारी व जिलाधिकारी उत्तरकाशी की तरफ से गंगोत्री में पोलिंग बूथ बनाने का प्रस्ताव भेजा गया था। जिसे निर्वाचन आयोग ने मंजूर कर लिया। निर्वाचन आयोग के इस फैसले का गंगोत्री के लोगों और यहां सालों से कुटिया बना कर रह रहे साधु-संतों ने स्वागत किया है। इसके बारे में खास बातें भी जानिए।

यह भी पढें - देहरादून आ रही ट्रेन की तीन बोगियों में लूट, हथियारों से लैस बदमाशों ने मचाया कोहराम
आपको बता दें कि गंगोत्री में पोलिंग बूथ बनाया गया है, लेकिन उत्तराखंड के बाकी के तीन धामों केदारनाथ, बद्रीनाथ और यमुनोत्री में आज तक कोई मतदान केंद्र नहीं बनाया गया। इन तीनों धामों में शीतकाल के दौरान किसी का स्थायी ठिकाना नहीं है। यमुनोत्री में शीतकाल के दौरान साधु-संत नहीं रहते, जबकि केदारनाथ में पुनर्निर्माण कार्य में जुटे लोगों के नाम निचले इलाकों की मतदाता सूची में दर्ज हैं। बदरीनाथ में भी किसी का स्थायी ठिकाना नहीं है, यही वजह है कि बदरीनाथ धाम या माणा गांव में कोई मतदान केंद्र नहीं बनाया गया है। फिलहाल इतजा जरूर है कि इस बार का चुनाव गंगोत्री में बेहद खास रहने जा रहा है। 3140 मीटर की ऊंचाई पर पहली बार पोलिंग बूथ बना है। ऐसे में मतदाताओं के बीच अच्छी खासी दिलचस्पी भी देखने को मिल रही है।


Uttarakhand News: Polling booth at gangotri dham

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें