उत्तराखंड के ढाई लाख बच्चों के लिए अच्छी खबर, हर हफ्ते मुफ्त में मिलेगा दूध

उत्तराखंड के ढाई लाख नौनिहालों के लिए अच्छी खबर है। आंचल अमृत योजना की शुरुआत हो गई है। इसकी खूबियां जान लीजिए

Anchal amrit yojna in uttarakhand - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, आंचल अमृत योजना, त्रिवेंद्र सिंह रावत,Uttarakhand, Uttarakhand News, Aanchal Amrit Yojana, Trivendra Singh Rawat, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

बच्चे स्वस्थ होंगे, तो उत्तराखंड का भविष्य उज्जवल होगा। ये बात आप जानते हैं कि किसी भी गांव, शहर, राज्य, देश के उज्जवल भविष्य के लिए जरूरी है कि बच्चों का लालन-पालन अच्छा हो। स्वस्थ बच्चा ही आने वाला सुनहरा कल लाएगा। इसी दिशा में उत्तराखंड में एक शानदार योजना की शुरुआत की गई है। नौनिहालों में कुपोषण दूर करने के लिए आंचल अमृत योजना की शुरुआत की गई। इस योजना की खास बात ये है कि हफ्ते में दो दिन उत्तराखंड के ढाई लाख बच्चों को दूध निशुल्क दिया जाएगा। सप्ताह में दो दिन बच्चों को 100-100 एमएल दूध निशुल्क दिया जाएगा। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस योजना की शुरुआत के साथ साथ पशुपालकों के लिए 32 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास भी किया। आंचल अमृत योजना के एक ऐसी योजना है, जिसके तहत हर आंगनबाड़ी केंद्र में पढ़ाई करने वाले 6 साल तक के बच्चे के लिए सुगंधित मीठा स्किम्ड मिल्क पाउडर उपलब्ध रहेगा।

यह भी पढें - उत्तराखंड में 20 हजार आंगनबाड़ी केंद्रों पर 2.5 लाख बच्चों को 'मुफ्त दूध' की सौगात
सीएम ने इस बारे में बताया कि अगर बचपन में पौष्टिक आहार बच्चों को उपलब्ध हुआ तो वो जीवन भर स्वस्थ रहेंगे। इसके साथ ही उत्तराखंड में दुग्ध उत्पादन पर भी जोर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि ‘मैदानी क्षेत्र की करीब 8 हजार गाय पहाड़ के पशु पालकों को उपलब्ध कराई गई हैं। दुग्ध क्षमता को बढ़ाने के लिए 24 करोड़ रुपये दिए गए हैं।इसके अलावा पशुपालकों को चारा उपलब्ध कराने के लिए आठ करोड़ रुपये दिए गए। खास बात ये है कि डेरी विकास विभाग की तरफ से रूरल इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट फंड योजना चलाई जा रही है। इसके तहत ऊधमसिंहनगर, नैनीताल, बागेश्वर, अल्मोड़ा, देहरादून, चंपावत, पौड़ी और हरिद्वार के लिए 16 मिल्क चिलिंग सेंटर का शिलान्यास किया गया। इस खास काम के लिए 9 करोड़ 98 लाख रुपये बजट तय किया गया।


Uttarakhand News: Anchal amrit yojna in uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें