पहाड़ का ये खूबसूरत स्टेडियम...अमर शहीद जसवंत सिंह रावत के नाम से जाना जाएगा

शहीद जसवंत सिंह रावत की शौर्यगाथा हमेशा याद रहेगी। पहाड़ के इस खूबसूरत स्टेडियम का नाम अब शहीद के नाम से जाना जाएगा।

PAURI GAHWAL RANSI STADIUM name TO CHANGE - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, पौड़ी गढ़वाल, पौड़ी गढ़वाल न्यूज, जसवंत सिंह रावत, शहीद जसवंत सिंह रावत,Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Pauri Garhwal, Paur, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

पौड़ी गढ़वाल में एक खूबसूरत स्टेडियम है, जिसे इंटरनेशनल स्टेंडर्ड के लिए तैयार किया जा रहा है। प्रकृति की खूबसूरत छटा के बीच एक खूबसूरत स्टेडियम, जहां मैच देखने का अपना अलग ही मज़ा है। हम बात कर रहे हैं पौड़ी गढ़वाल के रांसी स्टेडियम की। एशिया में सबसे अधिक ऊंचाई वाले स्डिेडियमों में शुमार इस स्टेडियम को अब शहीद जसवंत सिंह रावत स्टेडियम के नाम से जाना जाएगा। 1962 के चीन युद्ध के हीरो अमर शहीद राइफलमैन जसवंत सिंह के बारे में तो आप जानते ही होंगे। एक ऐसा हीरो जो 72 घंटे तक चीन की सेना से लड़ता रहा था। ये उत्तराखंड का पहला स्टेडियम होगा, जिसका नाम उत्तराखंड शहीद के नाम पर रखा जा रहा है। बताया जा रहा है कि सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस बारे में निर्देश दे दिए हैं। रांसी स्टेडियम पौड़ी गढ़वाल जिले में है । समुद्र तल से 2133 मीटर की ऊंचाई पर स्थित ये स्टेडियम एशिया का दूसरा सबसे ऊंचा मैदान कहा जाता है।

यह भी पढें - उत्तराखंड शहीद: जिसके कपड़ों पर आज भी होती है प्रेस, सेवा में लगे रहते हैं 5 जवान !
ये मैदान एक तरफ से पेड़ों और दूसरी ओर से चट्टान से घिरा हुआ है। फिलहाल इसे अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करने के लिए तैयार किया जा रहा है। पाइन, घने देवदार और ओक के पेड़ों से घिरा ये स्टेडियम ट्रैकिंग के लिए भी आदर्श स्थान माना जाता है। बताया जाता है कि साल 1974 में उत्तर प्रदेश के तत्कालीन सीएम एचएन बहुगुणा ने इस स्टेडियम की नींव रखी थी। बाद में देखरेख के अभाव में ही यहां की हालत बिगड़ी। अब इसे इंटरनेशनल स्टेंडर्ड के लिए तैयार किया जा रहा है और नाम दिया जाएगा शहीद जसवंत सिंह रावत स्टेडियम। उत्तराखंड के पौड़ी-गढ़वाल जिले के बादयूं में जसवंत सिंह रावत का जन्म 19 अगस्त 1941 को हुआ था।आपको याद होगा कि 1962 में भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ था। इस युद्ध में 72 घंटे तक एक जवान बॉर्डर पर टिका रहा था। इस जवान ने अकेले बॉर्डर पर लड़कर 24 घंटे चीन के सैनिकों को रोककर रखा था। इस वीर जवान का नाम है जसवंत सिंह रावत।

यह भी पढें - देहरादून के कश्मीरी छात्र का ये वीडियो महबूबा मुफ्ती भी देखें..‘थैंक यू उत्तराखंड पुलिस’
सरकार की तरफ अच्छी पहल है कि इस स्टेडियम का नाम बदला जाएगा। ये फेसबुक पोस्ट भी देखिए।

रांसी स्टेडियम, पौड़ी अब शहीद जसवंत सिंह स्टेडियम

जहां एक ओर बाॅलीबुड द्वारा उत्तराखण्ड के वीर शहीद जसवंत सिंह को सम्मान...

Posted by PAURI पौड़ी on Friday, January 25, 2019


Uttarakhand News: PAURI GAHWAL RANSI STADIUM name TO CHANGE

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें