आज पहाड़ के गीतों पर झूमेगा दिल्ली-NCR, उत्तराखंड बसंतोत्सव में आप भी आइए

अगर आप दिल्ली-एनसीआर में हैं और उत्तराखंड को याद करते हैं तो तैयार हो जाइए, आज शाम 4 बजे से 7 बजे तक दिल्ली के दिलशाद गार्डन में उत्तराखंड से जुड़ा एक रंगारंग कार्यक्रम होने जा रहा है।

vasantotsaw in delhi dilshad garden - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, दिल्ली उत्तराखंड,Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Delhi Uttarakhand, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

मिट्टी की खुशबू को आखिर कोई कैसे भुला सकता है? आज भले ही लाखों लोग पहाड़ छोड़कर शहरों में बस गए हैं लेकिन खुशी तब होती है, जब वो उत्तराखंड की संस्कृति और परंपरा को शहरों में भी जीवित रखते हैं। इसी का एक नायाब उदाहरण है उत्तराखंड महोत्सव। देश की राजधानी दिल्ली और एनसीआर में अगर आप रह रहे हैं तो आज का दिन आपके लिए बेहद खास होने जा रहा है। पहाड़ के कलाकार आपको अपनी धुन पर थिरकाने वाले हैं। बीते कई सालों से दिल्ली के दिलशाद गार्डन में उत्तराखंड बसंतोत्सव का आयोजन होता रहा है और गढ़वाल भातृ मंडल द्वारा हर बार इसे और ज्यादा बेहतर बनाने की कोशिश की गई है। राज्य समीक्षा की टीम जब इस आयोजन को करवाने वाले लोगों से मिली तो ये जानकर बेहद खुशी हुई कि शहरों में रहने के बावजूद भी ये लोग उत्तराखंड की संस्कृति, परंपरा और खुशबू को जीवित रखे हुए हैं। उत्तराखंड बसंतोत्सव सिर्फ एक कार्यक्रम नहीं बल्कि दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले अनगिनत उत्तराखंडियों के लिए एक सौगात की तरह है।

अगर आप भी इस कार्यक्रम में शामिल होना चाहते हैं और अपने लोगों के बीच अपनी संस्कृति से रू-ब-रू होना चाहते हैं तो दिलशाद गार्डन के सिद्धार्थ इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल चले आइए। यहां आयोजन की पूरी तैयारियां हो चुकी हैं। मंच और आयोजन स्थल एक बड़े मैदान में आयोजित करवाया जा रहा है। इस आयोजन के अध्यक्ष हैं राजन भट्ट। काफी लोगों की टीम हर साल इस आयोजन को सफल बनाती है। कार्यक्रम के संयोजक हैं दीपक रावत और प्रेम चंद्र डिमरी। दिल्ली में विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे। साथ ही हिंदी एकेडमी के जीतराम भट्ट भी कार्यक्रम मुख्य अतिथि होंगे। आज नौकरी और रोजी रोटी की तलाश में हम सभी उत्तराखंड को छोड़कर शहरों में बसने आए है लेकिन देवभूमि और पहाड़ों की यादें हमारे दिलों में बसी है। ऐसे आयोजनों के माध्यम से हम उन यादों को एक बार फिर से जी सकते हैं। इसलिए थोड़ा सा भी वक्त है तो आप भी दिलशाद गार्डन चले आइए। अपने लोगों और अपने विशाल परिवार से मिलने में हर किसी को अच्छा लगता है। जय उत्तराखंड, जय देवभूमि।


Uttarakhand News: vasantotsaw in delhi dilshad garden

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें