सलाम है ऐसी वीरांगना को, शहीद पति की वर्दी पहनकर सेना में शामिल होंगी गौरी महादिक

शहीद मेजर प्रसाद महादिक की पत्नी गौरी महादिक भारतीय सेना का हिस्सा बनना चाहती हैं.. उनके मुताबिक यही उनके पति को उनकी तरफ से सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

Martyrs wife gauri mahadik to join Indian Army - Gauri Mahadik, Martyr Major Prasad Mahadik, गौरी महादिक, शहीद प्रसाद महादिक, भारतीय सेना, पुलवामा शहीद, Pulwama Martyr, शहीद मेजर प्रसाद महादिक, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में शहीद जवानों की शहादत ने देश को झकझोर दिया है। सालों से हमारे देश के होनहार अफसर और जवान आतंकवाद से लड़ते हुए शहीद होते आ रहे हैं। शहीदो की शहादत पर परिजनों को गर्व तो होता है, लेकिन जवान अपने पीछे जो खालीपन और पीड़ा छोड़ जाते हैं, वो परिजनों को तोड़कर रख देता है। शहीद मेजर प्रसाद महादिक की पत्नी भी इस दर्द और पीड़ा से टूट सकती थीं, लेकिन उन्होंने इस दर्द को ही अपना हौसला बना लिया। पति को श्रद्धांजलि देने के लिए शहीद मेजर प्रसाद महादिक की पत्नी गौरी महादिक भारतीय सेना में शामिल होना चाहती हैं। उनका मानना है कि पति को श्रद्धांजलि देने का यही सबसे बेहतर और सच्चा तरीका है, कि वो भी देश की सेवा करें।

यह भी पढें - अमिट रहेंगी उत्तराखंड शहीदों की यादें.. देहरादून में होगा बेमिसाल काम
गौरी महादिक एक योग्य कंपनी सचिव और वकील हैं। वह मई 2017 से एक प्रतिष्ठित कानूनी फर्म के साथ काम कर रही हैं। गौरी ने इंडो-जर्मन चैंबर ऑफ कॉमर्स के साथ भी काम किया है। अब वो आर्मी ज्वाइन करना चाहती हैं। गौरी कहती हैं कि पति के शहीद होने के 10 दिन बाद मैं सोच रही थी, कि अब मुझे क्या करना चाहिए....कई सवाल मन में थे, जिनके जवाब मुझे ढूंढने थे। फिर मैंने फैसला किया कि मुझे उनके लिए कुछ करना है, और मैं सेना में शामिल हो जाऊंगी। मैं पति की वर्दी और उनके स्टार को पहनूंगी। गौरी महादिक कहती हैं कि मैं चेन्नई में ऑफिसर ट्रेनिंग एकेडमी (ओटीए) में प्रशिक्षण के बाद बतौर लेफ्टिनेंट के रूप में अगले साल सेना में शामिल हो जाउंगी। रिपोर्ट्स के मुताबिक गौरी महादिक को वॉर विडोज के लिए गैर-तकनीकी श्रेणी में लेफ्टिनेंट के रूप में नियुक्त किया जाएगा। आपको बता दें कि 31 साल के मेजर प्रसाद महादिक साल 2017 के दिसंबर में अरुणाचल सीमा के चीन बॉर्डर पर शहीद हो गए थे। शहादत के वक्त वो गोला-बारूद के टैंक चेक कर रहे थे, कि तभी उसमें विस्फोट हो गया था।


Uttarakhand News: Martyrs wife gauri mahadik to join Indian Army

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें