उत्तराखंड में शोक की लहर..4 दिन में 4 सपूत शहीद, मेजर ढौंडियाल के घर पसरा मातम

उत्तराखंड का एक और जांबाज आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गया। मेजर विभूति ढौंडियाल ने देश के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी।

4 jawan martyer from uttarakhand - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, उत्तराखंड शहीद, उत्तराखंड पुलिस, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Uttarakhand Shaheed, Uttarakhand Police, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

उत्तराखंड का एक और लाल देश की सेवा में कुर्बान हो गया। जिस वक्त देश राजौरी आईईडी धमाके में शहीद मेजर चित्रेश को आखिरी विदाई दे रहा था, उसी वक्त पहाड़ के एक और जांबाज सपूत की शहादत की खबर आ गई। पुलवामा के पिंगलिन इलाके में आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में देहरादून के मेजर विभूति ढौंडियाल शहीद हो गए हैं। मेजर विभूति ढौंडियाल का परिवार नेशविला रोड में रहता है। वो 55 राष्ट्रीय राइफल्स में थे। मेजर विभूति की शहादत की खबर मिलते ही घर में कोहराम मच गया। मेजर विभूति की पिछले साल ही शादी हुई थी। वो तीन बहनों के एकलौते भाई थे। मेजर विभूति के शहीद होने की खबर उनके परिजनों को देने की हिम्मत सेना के अफसरों में भी नहीं थी। घर में उनकी पत्नी, दादी और मां को इस बारे में नहीं बताया गया था, लेकिन बाद में सेना के अफसरों ने भारी मन से उनकी पत्नी को मेजर विभूति की शहादत की खबर दी।

पति के शहीद होने की खबर सुनते ही पत्नी पर मानों दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। अभी उनकी शादी को एक साल ही हुआ था, दोनों भावी जीवन के सपने संजो रहे थे कि तभी पति की शहादत की खबर आ गई। दो महीने पहले ही शहीद मेजर विभूति अपने छुट्टी लेकर अपने घर आए हुए थे। उस वक्त परिजनों को ये भान तक नहीं था कि ये उनकी आखिरी छुट्टी साबित होगी। अब मेजर विभूति घर लौटेंगे तो जरूर, लेकिन निष्प्राण....तिरंगे में लिपटे हुए। मेजर विभूति बेहद मिलनसार थे। बता दें कि आतंकियों के साथ रविवार रात से जारी मुठभेड़ में मेजर विभूति ढौंडियाल समेत 4 जवान शहीद हो गए हैं। एक जवान घायल है। सेना ने इस पूरे इलाके को घेरा हुआ है...जहां आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन जारी है। इससे पहले शनिवार को नौसेरा सेक्टर में मेजर चित्रेश बिष्ट शहीद हो गए थे। इससे पहले पुलवामा अटैक में भी उत्तराखंड के दो सपूत शहीद हो गए थे।


Uttarakhand News: 4 jawan martyer from uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें