पुलवामा आतंकी हमला: अधूरा रह गया शहीद मोहनलाल रतूड़ी का सपना..

आतंकी हमले में शहीद मोहनलाल रतूड़ी रिटायरमेंट के बाद गांव में बसना चाहते थे, वो नया मकान भी बनवा रहे थे...लेकिन ये सपना पूरा हो पाता इससे पहले ही वो शहीद हो गए...

martyr mohanlal raturi uttarkashi uttarakhand - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, दीपक रावत, दीपक रावत पुलवामा शहीद,Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Deepak Rawat, Deepak Rawat Pulwama Shaheed, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में उत्तरकाशी के मोहनलाल रतूड़ी की शहादत की खबर से इलाके में मातम पसरा है। मोहनलाल रतूड़ी उत्तरकाशी के बनकोट के रहने वाले थे। मोहनलाल का गांव से बेहद लगाव था। परिवार के देहरादून में होने के बावजूद उन्होंने गांव से रिश्ता नहीं तोड़ा, वो गांव में अपना नया मकान बनवा रहे थे, ताकि रिटायरमेंट के बाद अपनी जन्मभूमि के करीब रह सकें, लेकिन उनका ये सपना अधूरा रह गया। परिजनों को मोहनलाल की शहादत पर गर्व है, लेकिन उनके यूं चले जाने का बेहद अफसोस भी है। मोहनलाल रिटायरमेंट के बाद गांव में रह कर समाजसेवा करने का सपना देखा करते थे, लेकिन ये सपना...केवल सपना ही बनकर रह गया। गांव वालों ने बताया कि मोहनलाल बेहद मिलनसार थे, वो धार्मिक प्रवृत्ति के थे। सेना में भर्ती होने से पहले मोहनलाल रामलीला में राम का पात्र निभाया करते थे। बच्चों की पढ़ाई के लिए मोहनलाल देहरादून जरूर आ गए थे, लेकिन गांव से उनका रिश्ता हमेशा जुड़ा रहा।

यह भी पढें - Video:: देहरादून पहुंचा शहीद मोहनलाल रतूड़ी का पार्थिव शरीर, बेटी ने किया सेल्यूट..देखिए
बीते दिसंबर में मोहनलाल चिन्यालीसौड़ स्थित अपने गांव गए थे। तब उन्होंने रिटायरमेंट के बाद गांव वापस लौटने की इच्छा जताई थी। उनका परिवार खेती और पुरोहित का काम करता था, लेकिन देशसेवा के लिए मोहनलाल ने पैतृक काम छोड़ आर्मी ज्वाइन कर ली थी। मोहनलाल की शहादत से गांव में मातम पसरा है। ग्रामीण आतंकियों को कड़ा सबक सिखाने की मांग कर रहे हैं। शहीद मोहनलाल का परिवार देहरादून में रहता है। मोहनलाल की बड़ी बेटी की तीन साल पहले शादी हो चुकी है, जबकि दो बेटे और दो बेटियां देहरादून में रह कर पढ़ाई कर रहे हैं। मोहनलाल के ज्यादातर रिश्तेदार गांव में रहते हैं, जो कि उनकी शहादत की खबर पाकर देहरादून पहुंच चुके हैं।


Uttarakhand News: martyr mohanlal raturi uttarkashi uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें