Connect with us
Image: indian navy search opration in tehri lake

टिहरी झील में गिरा ट्रक, 3 दोस्त 10 दिन से लापता...भारतीय नौसेना भी खाली हाथ लौटी

3 नवंबर को टिहरी झील में ट्रक समा गया था, अब तक ट्रक में सवार 3 दोस्तों का कोई अता-पता नहीं चला है। अब इंडियन नेवी भी खाली हाथ लौट आई है।

उत्तराखंड ही नहीं बल्कि देश के लिए के लिए ये किसी रहस्य से कम नहीं है। 3 नवंबर को टिहरी झील में एक ट्रक गिर गया था, जिसमें चार लोग सवार थे। एक शख्स छिटककर झाड़ियों में गिर गया था, जबकि तीन दोस्त ट्रक समेत झील में समा गए थे। हादसे के 10 दिन बाद भी सर्चिंग टीम के हाथ खाली है। पुलिस से लेकर, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ यहां तक कि भारतीय नौसेना को भी ढूंढ खोज में लगाया गया। अब तक सभी के हाथ खाली हैं और सवाल ये है कि आखिर वो तीन दोस्त कहां चले गए। आपको बता दें कि जिला प्रशासन ने भारत सरकार से भारतीय नौसेना की टीम बुलाने की मांग की थी। इसके बाद सरकार ने दिल्ली से नौ सेना की एक टीम भेजी थी। गोताखोरों की मदद से दुर्घटनास्थल पर डूबे तीन लोगों को ढूंढने की कोशिश की गई। इसके बाद भी कोई सफलता हाथ नहीं लगी।

यह भी पढें - टिहरी झील में गिरा ट्रक, लापता हुए 3 दोस्त..अब तक नहीं मिला सुराग
3 नवंबर शनिवार की देर रात को सभी लोग ट्रक से गंगोत्री धाम के लिए निकले थे। इस दौरान ये हैरान कर देने वाला हादसा हुआ था। पीपलडाली लंबगांव मोटर मार्ग पर खांड गांव के पास ट्रक अनियंत्रित हो गया था। ट्रक में चार लोग सवार थे। लेकिन संयोग से राकेश लाल (44) पुत्र स्व.गेदा लाल निवासी खोला झील किनारे झाडियों के बीच छिटक गया। रात में अंधेरा होने और उसके पास मोबाईल ना होने से वो दुर्घटना की खबर किसी को नहीं दे पाया। रात भर जब परिजनों का उनसे संपर्क नहीं हो सका तो 4 नवंबर की सुबह रविवार को राकेश की पत्नी ने अपने भाई सोबन से उनकी तलाश करने की बात कही। इसके बाद रगड़ा और पिपोला गांव के लोग तलाश करते हुए पीपलडाली की ओर पहुंचे। वहां उन्हें झील किनारे मिट्टी धंसने और दुर्घटना होने की संभावना दिखाई दी।

यह भी पढें - पहाड़ में दर्दनाक हादसा..खाई में गिरी कार, एक युवक की मौत, दो गंभीर रूप से घायल
आठ बजे लोग झील तक पहुंचे तो वहां उन्हें झाडियों के बीच राकेश दलदल में फंसा मिला। उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल ले आए। ट्रक में सवार तेजपाल (25) पुत्र जठू, सुरेश लाल (35) पुत्र भरतू लाल खोला, वाहन चालक अनिल भंडारी (35) पुत्र तेज सिंह निवासी पडिया का पता नहीं चल पाया। तबसे लगातार सर्चिंग टीम सर्च ऑपरेशन में जुटी है। भारतीय नौसेना की टीम को भी बुलाया गया लेकिन अब तक हाथ खाली हैं। पहाड़ में सफर कितना खतरनाक साबित हो सकता है, इसका पता तब ही चल गया होगा जब 3 नवंबर को ट्रक टिहरी झील में समा गया था। अब देखना है कि इस मामले में और क्या बातें निकलकर सामने आती हैं। फिलहाल सर्चिंग टीम की तलाशी लगातार जारी है।

वीडियो : DM स्वाति भदौरिया से खास बातचीत
वीडियो : आछरी - गढ़वाली गीत
वीडियो : उत्तराखंड का अमृत: किलमोड़ा
Loading...

उत्तराखंड समाचार

Loading...

उत्तराखंड की ट्रेंडिंग खबरें

वायरल वीडियो

इमेज गैलरी

Trending

SEARCH

To Top