उत्तराखंड में 50 इलैक्ट्रिक बसें चलेंगी..GPS, पैनिक बटन जैसी खूबियां..किराया सबसे कम

लीजिए एक खुशखबरी है...उत्तराखंड में अब 50 इलैक्टि्रक बसें चलेंगी। 1 महीेने का ट्रायल सफल रहा और इस बस की कई खूबियां सामने आई हैं।

50 electric bus in uttarakhand - electric bus, uttarakhand parivahan, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,ऑटोमैटिक स्लाइडिंग डोर सिस्टम,किलोमीटर,जीपीएस,डीजल बस,पैनिक बटन,मसूरी-देहरादून

उत्तराखंड की पहली पैनिक बटन वाली इलैक्ट्रिक बस अब सड़क पर उतरने के लिए तैयार है। 1 करोड़ रुपये की लागत वाली इस बस की खूबियां बेमिसाल हैं और किराया बेहद ही कम है। आपको बता दें कि बीते 9 अक्टूबर से 9 नवंबर तक इस बस का ट्रायल देहरादून से मसूरी मार्ग पर किया गया। ये ट्रायल सफल रहा है और अब देहरादून से मसूरी मार्ग पर 25 इलैक्ट्रिक बसों की शुरुआत होगी। इसके साथ ही हल्द्वानी से नैनीताल मार्ग पर भी 25 इलैक्ट्रिक बसें चलेंगी। इन बसों के फायदे को देखते हुए आने वाले वक्त में इनकी संख्या को और भी ज्यादा बढ़ाया जाएगा। बस की हर सीट पर पैनिक बटन दिया गया है। इसके अलावा बस में सीसीटीवी कैमरे और जीपीएस जैसी सुविधाएं भी दी गई हैं। अब आपको इस बस का किराया और पैनिक बटन की खूबियां भी बता देते हैं।

यह भी पढें - खुशखबरी: उत्तराखंड में अब इलैक्ट्रिक बसों की शुरुआत, मसूरी-देहरादून रूट पर ट्रायल
सबसे पहले तो ये जान लीजिए कि उत्तराखंड में साधारण बस का किराया प्रति किलोमीटर 18 रुपये है। लेकिन इलैक्ट्रिक बस का किराया सिर्फ 6 रुपये प्रति किलोमीटर बताया जा रहा है। पैनिक बटन जीपीएस की मदद से काम करता है। ये एक ऐसा फीचर है जो मुसीबत के समय या किसी अप्रिय घटना के होने पर बेहद काम आता है। उस समय आप उसके उपयोग से सिक्योरिटी, पुलिस या अपने किसी जानने वाले को अपनी लोकेशन के साथ साथ ये बता सकते है कि आप मुसीबत में है। आपको बता दें कि इस एक बस की कीमत 1 करोड़ रुपये है। पर्यावरण के लिहाज से ये उत्तराखंड के लिए बेहतरीन बस साबित होगी। बस में ऑटोमैटिक स्लाइडिंग डोर सिस्टम दिया गया है। स्लाइडिंग डोर का कंट्रोल ड्राइवर के पास रहता है। इसके अलावा भी इसकी कई खूबियां हैं।

यह भी पढें - उत्तराखंड में दौड़ी पहली इलैक्ट्रिक बस.. पैनिक बटन, GPS और CCTV जैसी खूबियां
बस में इलैक्ट्रिक डिस्प्ले दिए गए हैं, जिन पर यात्रियों को रूट की तमाम जानकारियां दी जाएंगी। लो फ्लोर के चलते बुजुर्गों, बच्चों और महिलाओं को चढ़ने-उतरने में बेहद आसानी होगी। अब बात डीजल बस और इलैक्ट्रिक बस में अंतर की। डीजल बस का किराया 18 रुपये प्रति किलोमीटर होता है, लेकिन इलैक्ट्रिक बस का किराया 6 रुपये प्रति किलोमीटर है। बैटरी एक बार चार्ज होने पर ये बस 200 से 250 किलोमीटर का सफर तय करती है। इलैक्ट्रिक बस का व्हील बेस 9 मीटर है, जबकि साधारण बस का व्हील बेस 8.5 मीटर होता है। इलैक्ट्रिक बस की वारंटी 15 साल की है, जबति साधारण बस की वारंटी 6 साल की होती है। तो आप भी तैयार रहिए इस शानदार सफर के लिए।


Uttarakhand News: 50 electric bus in uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें