Video: अपने गांव पहुंचा उत्तराखंड शहीद का पार्थिव शरीर, रो-रोकर बेहोश हुई मां!

सरहद पर देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाला शहीद राजेन्द्र बुंगला का पार्थिव शरीर पिथौरागढ़ पहुंचा। लोगों ने नम आंखों से इस सपूत को विदाई दी।

marteyer rajendra bungla of pithoragarh - rajendra singh bungla, uttarakhand marteyer, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,गंगोलीहाट,शहीद राजेन्द्र बुंगलाउत्तराखंड,

पिथौरागढ़ की धरती तिरंगे में लिपटे अपने लाल को देखकर आंसू बहा रही है। मन में दुख है और दिल में गर्व है। हर कोई 23 साल के एक बच्चे की कुर्बानी को सलाम कर रहा है। जम्मू कश्मीर में आतंकी हमले में शहीद राजेंद्र का पार्थिव शरीर पिथौरागढ़ पहुंचा, तो क्षेत्र का माहौल गमगीन हो गया। राजेन्द्र के पिता सदमे में हैं और मां बार बार बेहोश हो रही है। पिता को कौन समझाए और मां के दिल को कौन बुझाए ? एक पिता ही जानता है कि जवान बेटे के जाने का दुख क्या होता है। एक मां ही जानती है कि ये दर्द कितना बड़ा है। जिसे 9 महीने पेट में पाला, पढ़ाया, लिखाया, अपने हाथों से चलना सिखाया, वो इकलौता बेटा जब भरी जवानी में चला जाए तो असहनीय दुख होता है। उस दुख को नाम आप समझ सकते हैं और ना ही हम समझ सकते हैं।

यह भी पढें - पहाड़ का सपूत शहीद हुआ...3 बहनों का इकलौता भाई चला गया, उसे भी मनानी थी दिवाली
परिवार का इकलौता बेटा था, उसे भी सेना में भेज दिया। सलाम उस पिता और मां को भी, जिन्होंने सबसे पहले अपने बेटे को देशप्रेम सिखाया। भले ही घर में कई आर्थिक हालातों से मा-पिता को गुजरना पड़ा लेकिन उन्होंने अपने बेटे को ऐसा मजबूत बनाया कि वो देश की सेना में भर्ती हुआ। अब वो चला गया। ब्रिगेड हैड क्वार्टर क्षेत्र में शहीद राजेन्द्र बुंगला का शव पहुंचा। मुख्यमंत्री, स्टेशन कमांडर, डीएम, एसपी, सैन्य अधिकारियों, पूर्व सैनिकों ने शहीद के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित किए। राजेन्द्र बुंगला गंगोलीहाट तहसील के बुंगली क्षेत्र के मूल निवासी थे। उन्हें इसी दिवाली पर घर भी आना था। दिवाली पर तो बेटा लौटा नहीं लेकिन तिरंगे में लिपटा हुआ लौट आया। शहादत की खबर ने परिजनों, दोस्तों एवं क्षेत्रवासियों को स्तब्ध कर दिया।

यह भी पढें - पहाड़ का सपूत शहीद..बहनों की शादी करवानी थी, गांव में घर बनाना था..वो चला गया!
हर कोई कहता है कि पहाड़ की जवानी पहाड़ के काम नहीं आती, हम आपको बताते हैं कि पहाड़ की जवानी पहाड़ के नहीं बल्कि देश के काम आती है। आज देश की सेना में सबसे ज्यादा भर्ती होने वाले युवा उत्तराखंड से हैं और ये रिकॉर्ड ऐसा है, जिसका टूटना नामुमकिन है। शहीद राजेन्द्र बुंगला को सलाम...ये वीडियो देखिए।

शहीद राजेंद्र सिंह को अंतिम विदाई

गंगोलीहाट के लाल राजेन्द्र सिंह बुंगला का पार्थिव शरीर लाया गया पिथौरागढ़. श्रद्धांजलि देने पहुंचे मुख्यमंत्री. जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में पत्थरबाजों के हमले में शहीद हो गये राजेंद्र. #UttarakhandMartyr पूरी ख़बर पढ़ें- https://bit.ly/2PmgynL

Posted by Etv Uttarakhand on Saturday, October 27, 2018


Uttarakhand News: marteyer rajendra bungla of pithoragarh

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें