उत्तराखंड में भीषण हादसा..12 वीं कक्षा के छात्र की मौत, दो छात्र गंभीर रूप से घायल

सवाल ये है कि आखिर उत्तराखंड की धरती पर ये क्या हो रहा है ? आज ही के दिन दो हादसों में दो मौत हो गई। दूसरा हादसा और भी ज्यादा दर्दनाक था।

road accident in chakrata one student died - uttarakhand road accident, chakrata accident, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,एक्सीडेंट,कनबुवा,चकराता मोटर मार्ग,निथला गांवउत्तराखंड,

उत्तराखंड में एक बार फिर से दर्दनाक हादसा हुआ है। ऐसी खबर आपको रोजाना सुनने को मिल रही होंगी। ना तो हादसों पर लगाम लग पा रही है और ना ही रफ्तार पर किसी का वश चल रहा है। पहाड़ों में दनादन दौड़ती गाड़ियां हर दिन किसी की मौत को बुलावा दे रही हैं। किसी के घर का चिराग बुझ रहा है, किसी के माथे का सिंदूर उजड़ रहा है, तो कोई छोटी सी उम्र में ही अनाथ हो रहा है। हाजसे भी ऐसे खतरनाक कि बचने की कोई गुंजाइश नहीं। एक बार फिर से एक दर्दनाक हादसा हुआ और 12वीं कक्षा का एक छात्र को मौत अपने साथ खींच ले गई। आज ही चकराता मोटर मार्ग पर लालपुल के पास एक ऑल्टो कार अचानक अनियंत्रित हो गई और 100 मीटर नीचे खाई में जा गिरी। हादसा जिसने भी देखा वो हैरान रह गया।

यह भी पढें - दुखद: रुद्रप्रयाग जखोली में दर्दनाक कार हादसा, चालक की मौके पर ही मौत
इस हादसे में 17 साल के बच्चे की मौत हो गई, जो 12वीं कक्षा का छात्र बताया जा रहा है। नवीन पंवार जो कि सकनी का रहने वाला बताया जा रहा है। नवीन पंवार के अलावा इस हादसे में दो और बच्चे गंभीर रूप से घायल हुआ हैं। अमित पंवार जिसकी उम्र 18 साल बताई जा रही है और वो कनबुवा का रहने वाला है। इसके अलावा विशाल जिसकी उम्र 16 साल बताई जा रही है और वो भी सकनी का रहने वाला है। गंभीर रूप से घायल विशाल और अमित को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि तीनों स्कूल के छात्र थे और कार से निथला गांव से साहिया आ रहे थे। इस बीच कार अनियंत्रित हो गई और गहरी खाई में समा गई। इसके बाद स्थानीय लोगों ने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया और तीनों को खाई से बाहर निकाला।

यह भी पढें - ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे पर पलटी सवारियों से भरी बस, चमत्कार से बची 22 लोगों की जान!
दुख की बात ये है कि बुरी तरह से घायल नवीन पंवार ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। अमित पंवार और नवीन पंवार का पहले स्थानीय अस्पताल में इलाज चल रहा था। लेकिन चोटें ज्यादा होने की वजह से दोनों को ही हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है। हादसे में नवीन की दर्दनाक मौत होने पर सकनी गांव में शोक का माहौल है। स्थानीय लोगों द्वारा परिवार को सांत्वना दी जा रही है। नवीन के पिता का भी 6 महीने पहले एक्सीडेंट हुआ था और उनके पैर में चोटें आ गई थीं। नवीन के पिता दूध बेचकर परिवार का गुज़ारा कर रहे थे। हर कोई इस दुख की घड़ी में शोकाकुल परिवार का ढाढस बंधा रहा है। लेकिन एक पिता ही जानता है कि जवान बेटे को खोने का दर्द क्या होता है। हम आपसे भी ये ही अपील करेंगे कि पहाड़ों में गाड़ी हमेशा संभलकर चलाएं।


Uttarakhand News: road accident in chakrata one student died

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें