देवभूमि में धर्म परिवर्तन..ईसाई बने दो हिंदू परिवार, पंचायत ने गांव से बहिष्कार किया

देवभूमि में धर्म परिवर्तन..ईसाई बने दो हिंदू परिवार, पंचायत ने गांव से बहिष्कार किया

dharm parivartan in uttarakhand  - dharm parivartan, haridwar , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,,उत्तराखंड,

उत्तराखंड इस वक्त कई परेशानियों से जूझ रहा है और इनमरें से एक परेशानी वो लोग भी हैं, जो जबरन किसी और का धर्म परिवर्तन करवा रहे हैं। ये बात तो आप जानते ही होंगे कि इस वक्त उत्तराखंड में कई जगह इसाई मिशनरियों से जुड़े लोग सक्रिय हैं, कई बार धर्म परिवर्तन की खबरें आ चुकी हैं। कभी बंद मकान में गुपचुप प्रार्थना होती है, कभी जबरन धर्म बदला जाता है और ना जाने क्या क्या। खैर हाल ही में उत्तराखंड में धर्म परिवर्तन से जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसके बारे में जानकर हर कोई हैरान है। हरिद्वार के गांव एक्कड़ कलां के दो परिवारों ने हिंदू धर्म छोड़ा और ईसाई धर्म अपना लिया। जब गांव में पंचायत को इस बारे में पता चला तो पंचायत बुलाई गई। पंचायत में कुछ बड़े फैसले लिए गए हैं, इस बारे में भी जानिए।

यह भी पढें - उत्तराखंड में रेप के दोषी को मिली सजा-ए-मौत, दरिंदे ने दो बहनों को मार डाला था
यह भी पढें - देवभूमि को ये किसकी नज़र लग गई ? उत्तरकाशी के बाद पिथौरागढ़ में नृशंस हत्याकांड
पंचायत में फैसला लिया गया है कि दोनों परिवारों का सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा और परिवारों से कोई भी संबंध नहीं रखा जाएगा। उधर हिंदू संगठनों का कहना है कि इन परिवारों की घर वापसी कराई जाएगी। गांव के मांगेराम कश्यप और टेकचंद कश्यप का परिवार यहां दशकों से रह रहा था। कुछ दिन पहले दोनों ने सनातन धर्म त्यागा और ईसाई बन गए। ये बात धीरे-धीरे गांव के लोगों को पता चली और आग की तरह फैलने लगी। गांव में पंचायत हुई तो गुस्साए लोगों ने इसाई मिशनरियों पर लालच देकर धर्म परिवर्तन का आरोप लगाया। हिंदू संगठनों का कहना है कि इन परिवारों को किसी भी सूरत में ईसाई नहीं बनने दिया जाएगा। गांव में पंचायत भी हो गई, लेकिन पुलिस और खुफिया विभाग को इसकी जानकारी तक नहीं मिली ? गांव के प्रधान का कहना है कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है।


Uttarakhand News: dharm parivartan in uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें