सलाम..पहाड़ के रोशन रतूड़ी ने वो कर दिखाया, जो देश में कोई भी नहीं कर पाया!

सलाम..पहाड़ के रोशन रतूड़ी ने वो कर दिखाया, जो देश में कोई भी नहीं कर पाया!

roshan raturi of uttarakhand brings home arjun bisht - roshan raturi, arjun bisht, humanity, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,,उत्तराखंड,

क्या लिखें और कितना कहें ? ये वो शख्स है, जो अब तक 570 से ज्यादा लोगों को अकेले दम पर बचा चुका है। क्यों बचाए इतने लोग ? इस सवाल के जवाब में रोशन रतूड़ी कहते हैं कि “ये मेरा धर्म है’। इनमें से कितने लोग आपको याद रखते हैं ? इस सवाल के जवाब में रोशन रतूड़ी कहते हैं कि ‘’मुझे फर्क नहीं पड़ता कि कोई मुझे याद रखे या ना याद रखे, मेरा काम मुसीबत में फंसे इंसान की मदद करना है।’’ हमेशा अपनी जेब से खर्च किया और लोगों की मदद करते रहे। गजब का हौसला है पहाड़ के इस सपूत का। अब जानते हैं रोशन रतूड़ी ने क्या किया है ? जो देश में कोई भी नहीं कर पाया, वो काम रोशन रतूड़ी ने कर दिखाया है। जापान में टिहरी के अर्जुन बिष्ट की मौत हो गई थी। अर्जुन बिष्ट की दो बेटियां हैं। एक बेटी के दिल में सुराख है, तो पत्नी बीमार है।

यह भी पढें - Video: रोशन रतूड़ी ने अर्जुन बिष्ट के बारे में बताई बड़ी बातें, जापान से पार्थिव देह लाने की तैयारी
ऐसे में जब रोशन रतूड़ी को इस बात का पता चला था, तो वो पहले दिन से ही अर्जुन बिष्ट के परिवार को इंसाफ दिलाने में जुट गए थे। वो खुद ही जापान गए और अर्जुन बिष्ट के पार्थिव शरीर को भारत लेकर आए। रोशन रतूड़ी को सलाम करने का मन इसलिए करता है, क्योंकि वो निस्वार्थ हैं, अटल हैं और हर चुनौती का सामना करने की हिम्मत उनमें हैं। अकेले दम पर हर मुश्किल से लड़े, हर परेशानी का डटकर मुकाबला किया और अर्जुन बिष्ट की पार्थिव देह को भारत लेकर आए। जापान जाकर रोशन रतूड़ी ने इससे पहले ये भी बताया था कि अर्जुन बिष्ट की मौत का राज़ क्या है और उन्हें अभी भी कुछ बातों पर संदेह हो रहा है। खैर इस वक्त अगर कोई अर्जुन बिष्ट के परिवार के साथ सबसे आगे खड़ा है, तो शायद वो अकेले रोशन रतूड़ी ही हैं।

यह भी पढें - Video: जापान में मारे गए अर्जुन बिष्ट को इंसाफ दिलाएंगे रोशन रतूड़ी, खुद जा रहे हैं जापान
आखिर ये क्या बात है कि रोशन रतूड़ी इस तरह से हर किसी की मदद के लिए आगे आ जाते हैं। दरअसल इसके पीछे भी कुछ वजहें हैं। रोशन रतूड़ी के माता-पिता इस दुनिया में नहीं हैं। वो अकेले हैं और इस वजह से पूरी दुनिया को ही अपना परिवार मानते हैं। रोशन रतूड़ी जब भारत आए, तो उन्होंने कुछ तस्वीरें भी अपने फेसबुक पेज डाली हैं, इसके साथ ही रौशन ने एक वीडियो भी पोस्ट किया है.. आप भी देखिए। सलाम है पहाड़ के इस सपूत को।

जापान से अर्जुन सिह बिष्ट का पार्थिव शरीर वतन लाया गया और उसके परिवार के सभी लोगो से मिला । सभी क़ानूनी काग़ज़ पुरे कर पार्थिव शरीर उसके पिता को सौंपा गया आज शव को लेकर अन्तिम दर्शन के लिए घर ले गये और कल अर्जुन सिह बिस्ट का अंतिम संस्कार किया जायेंगा । भगवान अर्जुन सिह की आत्मा को शान्ति दे और उसके परिवार के दुख सहने की हिम्मत दे । जय उतराखड । जय भारत ।आपका सेवक Roshan Raturi RR

Posted by Roshan Raturi RR on Wednesday, 15 August 2018


Uttarakhand News: roshan raturi of uttarakhand brings home arjun bisht

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें