उत्तराखंड शहीद..इस वीर को भी मनाना था 15 अगस्त..देश की रक्षा में कुर्बान हो गया

उत्तराखंड शहीद..इस वीर को भी मनाना था 15 अगस्त..देश की रक्षा में कुर्बान हो गया

Tribute to Hameer pokhriyal - Hameer pokhriyal, uttarakhand shaheed , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,,उत्तराखंड,

15 अगस्त का दिन...हर्ष और उल्लास का दिन, उन वीरों को याद करने का दिन जिन्होंने कुर्बानियां देकर देश को गुलामी की बेड़ियों से आज़ाद कराया। कुर्बानी का ये सिलसिला लगातार चला आ रहा है। हमारा सबसे बड़ा दुश्मन हमारा पड़ोसी मुल्क है। पाकिस्तान लगातार आतंकियों से घुसपैठ कराता है और हमारे सैनिक उसके घुसपैठियों को मुंहतोड़ जवाब भी देते हैं। आतंकियों से लोहा लेते हुए हमारे वीर अमर हो जाते हैं। आइए 15 अगस्त पर इन वीरों में से एक वीर की कहानी आपको बताते हैं, जिसने हाल ही में सरहद पर लड़ते हुए अपनी जान गंवा दी। बेटा सरहद पर शहीद हो गया और पिता सरहद पर तैनात हैं। ये कहानी है हमीर पोखरियाल की। उत्तरकाशी के पोखरियाल गांव का बेटा...गढ़वाल राइफल का ये जांबाज इन दिनों राष्ट्रीय राइफल में तैनात था।

यह भी पढें - उत्तराखंड शहीद की पत्नी ने रो-रोकर पूछा सवाल, ‘आखिर कब तक मरते रहेंगे जवान?’
27 अप्रैल को हमीर पोखरियाल छुट्टी पर आए थे और मई में ड्यूटी पर वापस गए थे। उस दौरान हमीर ने अपनी गर्भवती पत्नी पूजा ने डिलीवरी के वक्त छुट्टी पर आने की बात कही थी। लेकिन भगवान को कुछ और ही मंजूर था। शहीद की गर्भवती पत्नी के कोख में पल रही जान अपने पिता को नहीं देख पाई। ऐसे हालातों में देश की रक्षा के लिए शहीद होने वाले जवानों पर आखिर कोई गर्व क्यों ना करे? 6 अगस्त यानी सोमवार को अचानक हालात बदल गए। कश्मीर का गुरेज सेक्टर गोलियों की दनदनाहट और गोलाबारी से हिल उठा। इस दौरान 36 राष्ट्रीय राइफल के जवानों ने मजबूती से आतंकियों का सामना किया। इसी इसी मुठभेड़ में एक मेजर और चार जवान शहीद हो गए थे। उत्तराखंड के हमीर सिंह पोखरियाल और मनदीप सिंह रावत ने देश के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया।

यह भी पढें - उत्तराखंड का लाल...आखिरी बार मां से कहा ‘अपना ध्यान रखना’..और शहीद हो गया
जबसे परिवार को इस बात की खबर मिली, तबसे हर किसी का रो-रोकर बुरा हाल है। शहीद के घर में उनकी गर्भवती पत्नी पूजा देवी, ढाई साल की बेटी अन्वी, मां राजकुमारी देवी और भाई सुनील पोखरियाल हैं। अन्वी को कुछ सूझ नहीं रहा है कि आखिर ये क्या हो रहा है ? पिता को फोन पर इस बात की जानकारी दी गई तो वो फफक कर रो पड़े। हालात ऐसे हैं कि किसी को कुछ सूझ ही नहीं रहा है कि आखिर क्या करें ? आखिर कब तक किसी का बेटा, किसी का भाई, किसी का पिता सरहद पर शहीद होता रहेगा ? क्यों किसी के पास इन सवालों का जवाब नहीं है? आपको जानकर हैरानी होगी कि उत्तराखंड ने हाल ही में ही करीब 9 वीर सपूतों को खो दिया है। उत्तराखंड के इस वीर सपूत को राज्य समीक्षा की टीम का शत शत नमन।


Uttarakhand News: Tribute to Hameer pokhriyal

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें