उत्तराखंड में शोक की लहर, गढ़वाल राइफल का जांबाज सीमा पर शहीद..जय हिंद

उत्तराखंड में शोक की लहर, गढ़वाल राइफल का जांबाज सीमा पर शहीद..जय हिंद

Uttarakhand mandeep pokhriyal martyr in border - Uttarakhand shaheed, mandeep pokhriyal   , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,,उत्तराखंड,

इस वक्त एक बड़ी खबर निकलकर सामने आ रही है। गढ़वाल राइफल के वीर जांबाज हमीर पोखरियाल आतंकियों से लड़ते लड़ते शहीद हो गए। हमीर पोखरियाल मूल रूप से टिहरी के लम्बगांव के रहने वाले थे। कश्मीर के बांदीपुरा सेक्टर में आतंकियों की घुसपैठ जारी है और भारतीय सेना आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दे रही है। 12 गढ़वाल राइफल के जवान हमीर सिंह पोखरियाल बांदीपुरा में ही तैनात थे। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की तरफ से भयंकर गोलाबारी और मोर्टार दागे गए। इस आतंकी हमले में सेना के एक मेजर के साथ साथ 3 जवान शहीद हो गए। इस वक्त कश्मीर के गुरेज़ सेक्टर में आतंकियों का एनकाउंटर चल रहा है। हमीर सिंह पोखरियाल का परिवार ऋषिकेश के गुमानीवाला में रहता है। 27 साल के हमीर सिंह के जाने से पूरे उत्तराखंड में शोक की लहर है।

यह भी पढें - उत्तराखंड शहीद..शरीर पर कई गोलियां लगी लेकिन लड़ता रहा..दुश्मनों को मारकर चला गया
यह भी पढें - उत्तराखंड का जांबाज...सीने पर गोली खाई, लेकिन दो खूंखार आतंकियों को मारकर गया
सुबह 6 बजे परिवार को खबर दी गई कि आपका लाल शहीद हो गया है। गर्व की बात ये है कि हमीर पोखरियाल ने अपने पिता को देखकर ही देशभक्ति सीखी थी। उनके पिता विजेन्द्र सिंह पोखरियाल एसएसबी में हैं और वो जम्मू-कश्मीर में ही तैनात हैं। शहीद हमीर पोखरियाल की एक बेटी भी है। सैन्य मुख्यालय से जब परिवार को इस बारे में पता चला, तो तबसे कोहराम मचा है। हर आंख में आंसू हैं तो इस शहीद जवान के लिए हर दिल में गर्व भी है। इस आतंकी मुछभेड़ में भारतीय़ सेना ने दो आतंकियों को ढेर किया और अभी भी लगातार एनकाउंटर जारी है। उत्तराखंड ने देश को हर बार ऐसे वीर सपूत दिए हैं, जिन्होंने देश की रक्षा के लिए अपने प्राण गंवा दिए। पहाड़ के इस सपूत को राज्य समीक्षा की टीम की तरफ से शत शत नमन।


Uttarakhand News: Uttarakhand mandeep pokhriyal martyr in border

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें