पहाड़ का शेरदिल आर्मी ऑफिसर..जिसने लश्कर-ए-तैयबा के खूंखार आतंकी को मार गिराया

पहाड़ का शेरदिल आर्मी ऑफिसर..जिसने लश्कर-ए-तैयबा के खूंखार आतंकी को मार गिराया

Story of colonel pankaj naudiyal  - Pankaj naudiyal, colonel pankaj naudiyal , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,,उत्तराखंड,

जिनकी वीरता को दुनिया सलाम करती है, वो हैं पहाड़ के वीर जांबाज। पहाड़ में ऐसे जांबाजों ने जन्म लिया है, जिन्होंने दुश्मनों के हर इरादे को नेस्तनाबूत कर दिया। बड़ी से बड़ी मुश्किल रास्ते में आई लेकिन हर मुश्किल को पार कर इन वीरों ने अपने हौसले से नया इतिहास रच दिया। आज हम जिस जांबाज की बात कर रहे हैं वो पौड़ी के राठ क्षेत्र से ताल्लुक रखते हैं। नौडी आंता खोली गांव के जांबाज कर्नल पंकज नौडियाल एक ऐसे शेरदिल ऑफिसर हैं, जिन्होंने लश्कर-ए-तैयबा के खूंखार आतंकी को ढेर कर दिया। पौड़ी के जिस राठ क्षेत्र से कर्नल पंकज नौडियाल ताल्लुक रखते हैं, वो पूरा इलाका सेना के लिए समर्पित है। कर्नल इंद्र सिंह नेगी, लेफ्टिनेंट जनरल गंभीर सिंह नेगी, मेजर हेम चमोली, ब्रिगेडियर राजेन्द्र सिंह, मेजर प्रकाश चमोली और मेजर मातवर सिंह रावत जैसे वीर सपूत इसी राठ क्षेत्र से ताल्लुक रखते हैं।

यह भी पढें - उत्तराखंड का जांबाज...सीने पर गोली खाई, लेकिन दो खूंखार आतंकियों को मारकर गया
इसी लिस्ट में कर्नल पंकज नौडियाल का नाम बड़े सम्मान के साथ लिया जाता है। 55 राष्ट्रीय राइफल्स की यूनिट के कमाडिंग ऑफिसर कर्नल पंकज नौडियाल ने लश्कर-ए-तैयबा के खूंखार आतंकी अबू दुजाना को ढेर किया था। दरअसल जम्मू कश्मीर में सेना ने आतंकियों के खिलाफ मिशन ऑल आउट चलाया था। एक के बाद एक आतंकी को ढेर किया जा रहा था। इसी दौरान लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी अबू दुजाना का खात्मा भी किया गया था। अबू दुजाना को मारने की रणनीति कर्नल पंकज नौडियाल की देख रेख में बनाई गई थी। 31 जुलाई से 1 अगस्त 2017 के बीच अबू और उसके साथी के पुलवामा के एक गांव में आने की खबर मिली थी। आतंकी के खात्मे के लिए भारतीय सेना तैयार हो गई। सबसे पहले कर्नल पंकज नौडियाल ने घर के मालिक को अपने भरोसे में लिया।

यह भी पढें - उत्तराखंड का सपूत, जो शादी के दो महीने बाद शहीद हुआ था.. रो पड़ी थी देवभूमि
इसके बाद पूरे घर की घेराबंदी कर दी थी। सेना ने दुजाना से सरेंडर करने को कहा लेकिन उसने इंकार कर दिया। बस फिर भारतीय सेना ने अपना ऑपरेशन शुरू किया। आगे आगे कर्नल पंकज नौडियाल और उनके पीछे सेना जवान। अबू दुजाना की तरफ से फायरिंग की गई, तो इसका माकूल जवाब भी मिला। जब आतंकी अबू दुजाना का खात्मा हुआ तो भारतीय सेना पर कश्मीर के लोगों का भी भरोसा बड़ा। ये ही नहीं कर्नल पंकड नौडियाल ने कई आर्मी ऑपरेशन में भी हिस्सा लिया है। कर्नल पंकज नौडियाल के पिता सीताराम नौडियाल बैंक मैनेजर थे। श्रीनगर गढ़वाल से छठी तक पढ़ाई पूरी करने के बाद पंकज नौडियाल देहरादून आ गए थे। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने सीडीएस की परीक्षा दी और आईएमए में उनका सलेक्शन हो गया था। अब भारतीय सेना में इस वीर की बहादुरी के किस्से मशहूर हैं।


Uttarakhand News: Story of colonel pankaj naudiyal

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें