Video: देवभूमि की बेटी..दिल्ली रहकर भी अपनी संस्कृति नहीं भूली, यू-ट्यूब पर बनी स्टार

Video: देवभूमि की बेटी..दिल्ली रहकर भी अपनी संस्कृति नहीं भूली, यू-ट्यूब पर बनी स्टार

shagun uniyal becoming rising star of social media  - shagun uniyal, garhwali song , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,उत्तराखंड,

कुछ मजबूरियां हैं, जो हमारे अपने लोगों को पहाड़ से दूर कर गई, वरना कौन चाहता है कि अपनी जन्मभूमि को छोड़े ? कुछ लोग ऐसे हैं, जो पहाड़ से दूर रहकर भी पहाड़ को भूले नहीं और खुशी तब होती है जब नन्हीं सी जुबान पहाड़ के गीतों को आत्मसात कर रही हो। पहाड़ की बेटी शगुन उनियाल के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। 11 साल की इस बेटी ने भले ही दिल्ली में जन्म लिया है लेकिन वो गढ़वाली गीतों के जरिए सोशल मीडिया पर सुपरस्टार बन रही है। यू-ट्यूब पर शगुन गढ़वाली गीतों के जरिए अपनी आवाज़ का जूद बिखेर रही हैं। मूलरूप से टिहरी जिले के गांव कफना की रहने वाली हैं शगुन उनियाल। शगुन के पिता विजेंद्र प्रसाद दिल्ली में एक होटल चलाते हैं। हाल ही में शगुन का एक गीत भी यू-ट्यूब पर आया है।

यह भी पढें - Video: गढ़वाली लड़कों का सुपरहिट अंदाज, पेश किया नया गीत...‘चल उड़ी जौला’
शगुन और प्रेम बिष्ट ने मिलकर ‘हे मोहना’ नाम का बेहतरीन गीत भी गाया है। हर किसी को पसंद आ रहा है। बचपन से ही शगुन को अपने पहाड़ के गीत गुनगुनाने का शौक रहा है। इसी का एक वीडियो हम आप तक लाए है। आप देख सकते हैं किस तरह से शगुन ‘टिहरी’ से संबंधित एक प्यारे से गीत को गा रही हैं। शगुन उनियाल के माता-पिता ने मीडिया से बात करते हुए बताया है कि शगुन सात साल की उम्र से ही मंच पर उतरकर गढ़वाली गीत गा रही हैं। धन्य तो वो माता-पिता भी हैं, जिन्होंने पनी बच्ची में कूट-कूटकर पहाड़ की परंपराएं और संस्कृति को जिंदा रखा है। ये बच्चे देवभूमि का आने वाला भविष्य हैं, जो देवभूमि से दूर रहकर भी अपने आप में उसकी यादों और परंपराओं को जिंदा रखे हुए हैं। आप ये वीडियो जरूर देखिए, आपको अच्छा लगेगा।

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Uttarakhand News: shagun uniyal becoming rising star of social media

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें