देवभूमि में ओवरलोडिंग से भीषण हादसा..महिला की मौत, एक ही परिवार के 10 लोग घायल

देवभूमि में ओवरलोडिंग से भीषण हादसा..महिला की मौत, एक ही परिवार के 10 लोग घायल

Rishikesh road accident  - rishikesh , rishikesh accident  , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,उत्तराखंड,

एक कार और उसमें 11 लोग सवार..11 लोगों में 6 बच्चे, 3 महिलाएं और दो पुरुष। एक ही कार में सवार ये सभी लोग ऋषिकेश के नीलकंठ महादेव घूमने निकले थे। ओवरलोडिंग एक बार फिर से बड़े हादसे का सबब बन गई। यानी अब तक खुद हम भी कोई सबक नहीं सके हैं। सवाल पुलिस की चेंकिंग पर भी उठने लगा है। क्य़ा पुलिस की निगाहें इस कार में सवार लोगों पर नहीं पड़ी ? हाल ही में पुलिस द्वारा बताया गया था कि पूरे उत्तराखंड में ओवरलोडिंग के खिलाफ सघन चेकिंग अभियान चल रहा है। फिर यहां कैसे चूक हो गई ? आज सुबह करीब 6 बजे ये कार देहरादून के पटेल नगर से चली। जरा सोचिए देहरादून के पटेल नगर से घट्डूगाड के बीच में कितनी पुलिस चौकियां और थाने हैं? अगर थोड़ी सी सतर्कता बरती जाती, तो इन लोगों की जान बच सकती थी।

यह भी पढें - पहाड़ में दिल दहला देने वाली वारदात, 15 साल के बच्चे को दो लड़कों ने जिंदा जलाया
घट्टूगाड़ के पास ये कार खाई में गिर गई। इस हादसे में एक महिला की दर्दनाक मौत हो गई और बच्चों समेत 10 लोग घायल हो गए। एक ही परिवार में एक खबर के बाद मातम मच गया। पुलिस का कहना है कि ये सभी एक ही परिवार के लोग थे। ये हादसा हुआ तो हड़कंप मच गया। लोगों को द्वारा तुरंत ही पुलिस को खबर की गई। पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को खाई से बाहर निकला। इस हादसे में देहरादून के पटेलनगर की रहने वाली सुमन देवी की मौत हुई है। इसके अलावा घायलों में लोकेश सुमन कश्यप (27 साल), विपिन (17 साल), नीतू (26 साल), अर्जुन (5 साल), अंशिका (3 साल) , अभिषेक (4 साल), कपिल (ढाई साल), मुकुल (6 साल), खुशबू (2 साल) कुंती देवी (28 साल) घायल हुए हैं। सभी घायलों को ऋषिकेश के राजकीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

यह भी पढें - उत्तराखंड के लिए अगले 24 घंटे बेहद खतरनाक, मौसम विभाग ने दी बड़ी चेतावनी
देखा जाए तो इसमें गलती खुद परिवार की भी है। कार में 11 लोगों को बिठाने का मतलब ही क्या ? जब आप जानते हैं कि आप पहाड़ों में सफर करने जा रहे हैं और पहाड़ मे ही कुछ दिन पहले एक भीषण हादसा ओवरलोडिंग के चलते हुआ है। धूमाकोट हादसे में मारे गए 48 लोगों को जख्म अभी भरा नहीं और एक भीषण हादसा हो गया। घर के खुशी-खुशी नीलकंठ महादेव के दर्शन को निकले एक परिवार में मातम मच गया। हम बार बार आपसे अपील करते हैं कि अपनी सुरक्षा अपने हाथ है। सड़क पर गाड़ी चलाते वक्त इस गुग़ालते में मत रहिए कि कुछ नहीं होगा। इसलिए नियम से ज्यादा लोगों को किसी कार में ना बिठाएं, सीट बेल्ट का इस्तेमाल बेहद जरूरी है। ऐसे हादसों पर लगाम लगाने के लिए पुलिस को भी बेहद सतर्क रहने की जरूरत है।


Uttarakhand News: Rishikesh road accident

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें