कल से पूरे उत्तराखंड में पुलिस का महाअभियान, गाड़ी चलाने वाले सावधान रहें!

कल से पूरे उत्तराखंड में पुलिस का महाअभियान, गाड़ी चलाने वाले सावधान रहें!

Uttarakhand police action against overloading  - Uttarakhand police, ashok kumar , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,उत्तराखंड,

हाल ही में धूमाकोट मार्ग पर भयंकर बस हादसा हुआ था। यात्रियों से खचाखच भरी बस दुर्घटना का शिकार हुई और इस वजह से करीब 48 लोगों की जान चली गई थी। ऐसे ना जाने कितने हादसे हुए हैं, जो ओवरलोडिंग की वजह से हुए हैं। तो सवाल ये है कि आखिर ओवरलोडिंग कब तक ? इसलिए उत्तराखंड पुलिस द्वारा कल से पूरे उत्तराखंड में चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। इतना समझ लीजिए कि उत्तराखंड में कल से यातायात के नियम और परिवहन के नियम तोड़ने वालों पर सख्त कार्रवाई होगी। उत्तराखंड पुलिस का साफ कहना है कि नियम तोड़ने वाले अब बख्शे नहीं जाएंगे। गाड़ियों में अगर क्षमता से ज्यादा सवारी या माल ढोया तो तुरंत ही कार्रवाई होगी। ऐसे वाहन चालकों और वाहन मालिकों के खिलाफ कठोर कार्रवाई को उत्तराखंड पुलिस द्वारा अमल में लाया जाएगा।

यह भी पढें - 10 दिन में 2324 चालान, 117 गाड़ियां सीज...एक्शन में उत्तराखंड पुलिस, जानिए क्यों?
ADG लॉ एंड ऑर्डर अशोक कुमार के नेतृत्व में पूरे उत्तराखंड में ये कार्रवाई होगी। उत्तराखंड पुलिस द्वारा बताया गया है कि 11जुलाई 2018 से 25 जुलाई 2018 तक ओवरलोडिंग और ओवर क्राउडिंग करने वाले वाहनों और वाहन चालकों के खिलाफ 15 दिवसीय विशेष अभियान चलाया जाएगा। ऐसे वाहनों का तुरंत ही चालान होगा या फिर उन्हें सीज किया जाएगा। इसके साथ ड्राइविंग लाइसेंस भी जब्त किया जाएगा। ADG वॉ एंड ऑर्डर अशोक कुमार का कहना है कि राज्य में घटित होने वाली सड़क दुर्घटनाओं के मुख्य कारणों में से एक कारण ओवरलोडिंग है। मैदानी क्षेत्रों में मालवाहक वाहनों द्वारा ओवरलोडिंग की जा रही है। इसके अलावा पर्वतीय जिलों में ओवर क्राउडिंग (क्षमता से अधिक सवारी) की जा रही है। सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए कठोर इन्फोर्समेन्ट की कार्रवाई किया जाना बेहद जरूरी है।

#ओवरलोडिंग_को_लेकर_उत्तराखण्ड_पुलिस_सख्त_कल_से_चलेगा_विशेष_अभियान

उत्तराखण्ड में यातायात एवं परिवहन नियम तोड़ने वालों की...

Posted by Uttarakhand Police on Tuesday, July 10, 2018


Uttarakhand News: Uttarakhand police action against overloading

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें