मुनस्यारी में बादल फटा, ऋषिकेश-गंगोत्री हाइवे बंद, उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट

मुनस्यारी में बादल फटा, ऋषिकेश-गंगोत्री हाइवे बंद, उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट

heavy monsoon rain alert in Uttarakhand - Monsoon, Heavy Rain, Uttarakhand Weather, Uttarakhand News,उत्तराखंड,

मानसून आते ही उत्तराखंड में मौसम ने तेवर दिखा दिए हैं। बरसात शुरू होते ही पूरे उत्तराखंड में लचर व्यवस्थाओं और अधूरी तैयारियों के कारण आमजन को एक बार फिर मुश्किलों का सामना करना पड रहा है। फिलहाल प्रदेश के मौसम विभाग ने 3 जुलाई तक उत्तराखंड में भारी बारिश की चेतावनी दी है। ख़ास तौर पर यात्रियों को सावधान रहने को कहा गया है। मानसून अभी शुरू ही हुआ है पर बादल फटने, हाईवे बाधित होने, घरों में पानी घुसने और तमाम समस्याओं ने तैयारियों पर सवाल खड़े कर दिए हैं। उत्तराखंड के मुनस्यारी में इस दौरान बादल फटने की घटना सामने आई है। आज सुबह पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी में बादल फट गया। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है, विडियो में देखा जा सकता है कि नाले में तेज गति से बारिश का पानी बहता लोगों के घर में घुस रहा है। खबर है कि बादल फटने से सेराघाट हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट को भारी नुकसान पहुंचा है। दरअसल भारी पानी के करण उत्पन्न हुए दबाव से सेराघाट प्रोजेक्ट का डैम टूट गया है। इसमें अभी तक राहत की बात ये है कि बादल फटने की वजह से हताहत होने की खबर अभी तक नहीं हैं।

यह भी पढें - उत्तरकाशी में बारिश से टूटी चट्टान, ITBP के जवान की दर्दनाक मौत...छुट्टी पर घर आया था
दूसरी तरफ, लैंडस्लाइड के कारण ऋषिकेश- गंगोत्री नेशनल हाइवे-94 बंद हो गया है। रविवार रात ऋषिकेश में कुंजापुरी देवी मंदिर से आगे नेशनल हाईवे 94 बाधित हो गया है। इस हाईवे पर पत्थर हटाने का काम जारी है। उत्तराखंड के आपदा सचिव अमित नेगी के मुताबिक भूस्खलन संभावित स्थानों पर तत्काल रिस्पॉन्स के लिए राहत उपकरणों समेत कर्मचारियों को तैनात किया गया है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सभी जिलाधिकारियों को भारी बारिश से सतर्क रहने के आदेश दिए हैं। आपदा प्रबंधन विभाग को भी किसी भी परिस्थिति पर नजर रखने और सभी प्रकार की सूचनाओं को तुरंत साझा करने को कहा गया है। पिछले 2-3 दिनों की झमाझम बारिश से तापमान में गिरावट तो आई है पर साथ ही बादल फटने, यातायात बाधित होने और भारी बारिश के चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।

यह भी पढें - उत्तराखंड के लिए मौसम विभाग की वॉर्निंग, अगले 72 घंटे 7 जिले सावधान रहें !
आपात जैसी स्थितियों से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग ITBP, SDRF, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस, आर्मी और मौसम विज्ञान केन्द्र से संपर्क बनाए हुए है। साथ ही हालत पर नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरों का भी प्रयोग किया जा रहा है। उत्तराखंड के मौसम विज्ञान केंद्र निदेशक बिक्रम सिंह ने कहा कि 30 जून से मानसून आने से उत्तराखंड में भारी बारिश के आसार हैं। उन्होंने 30 जून से 3 जुलाई तक उत्तराखंड में भारी बारिश होने की चेतावनी दी थी। बिक्रम सिंह ने सलाह दी कि भारी बारिश के दौरान यात्रियों को अतिरिक्त सावधानी बरतनी होगी। शनिवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को केदारनाथ में पुनर्निर्माण कार्यों का जायजा लेना था, लेकिन खराब मौसम के कारण उनका दौरा स्थगित कर दिया गया।

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Uttarakhand News: heavy monsoon rain alert in Uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें