उत्तराखंड में अफसर हो तो ऐसा...देहरादून में अपने एक्शन से फेमस हुए ये अधिकारी

उत्तराखंड में अफसर हो तो ऐसा...देहरादून में अपने एक्शन से फेमस हुए ये अधिकारी

Omprakash giving example of a serious officer  - Uttarakhand news, omprakash ,उत्तराखंड,

जब सड़क पर बुलडोजर चलता है, तो हंगामा तय है। खासतौर पर जब देहरादून में अतिक्रमण हटाने की बात हो, तो मामला और भी ज्यादा संवेदनशील हो जाता है। लेकिन इस संवेदनशील मसले को जिस शख्स ने बड़ी आसानी से निपटाया, वों नाम है ओमप्रकाश। एक ऐसे अफसर जिनकी तारीफ ऑल वेदर रोड के साथ साथ की मसलों में हो चुकी है। हाईकोर्ट का एक आदेश और उसके बाद शुरू हुआ देहरादून में अतिक्रमण हटाने का सिलसिला। सड़कों पर जबरदस्ती अतिक्रमण करने वाले ट्रैफिक के साथ साथ यातायात व्यवस्था को चौपट कर देते हैं। इसलिए हाईकोर्ट द्लारा ये फैसला सुनाया गया। इसके बाद अतिक्रमण हटाने का अभियान शुरू हुआ तो इसकी कमान एक शख्स ने संभाली।

यह भी पढें - सीएम त्रिवेंद्र के जनता दरबार का एक और वीडियो देखिए
उत्तराखंड के अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश को इसकी कमान सौंपी गई थी। इसलिए वो खुद सड़क पर उतरदे और पूरे देहरादून शहर की निगरानी करने लगे। ऐसा करने का मुख्य मकसद ये था कि लोगों से आमने-सामने बात भी हो सके और मौके पर ही उनकी परेशानियां दूर की जा सके। व्यापारियों से सीधे बातचीत हो रही थी और लगातार काम भी हो रहा था। खास बात ये है कि इतने बड़े स्तर का अधिकारी पहली बार अतिक्रमण हटाने वाली संवेदनशील कार्रवाई के लिए सड़क पर उतरा। सड़क पर ही अतिक्रमण हटाने के एक एक पहलू की जानकारी ली जा रही थी। ये पहली बार नहीं है, जब ओमप्रकाश ने लो प्रोफ़ाइल रहकर हाई प्रोफाइल मामले को आसानी से सुलझाया हो।

यह भी पढें - देवभूमि में ITBP ने ढूंढ निकाली 'महादेव गुफा'
इससे पहले गैरसैंण के बजट सत्र के दौरान मुख्यमंत्री को सड़क मार्ग से ले जाकर ऑल वेदर रो की हर जानकारी ओमप्रकाश द्वारा दी गई। उस दौरान उनके काम की तारीफ भी हुई। ये बात भी सच है कि दरअसल सरकार के हाथ पैर ये अफसर ही हैं। वास्तव में अगर नौकरशाही अपनी जिम्मेदारी को निभाना सीख जाए, तो आम आदमियों के काम भी आसान हो जाते हैं। इस वक्त कोर्ट के आदेश का पालन करना सबसे बड़ी जिम्मेदाी थई और ओमप्रकाश ने अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभाया है। इस काम के लिए उनकी सरकार और उत्तराखंड में तारीफ हो रही है। सबसे बड़ी बात ये देखने को मिली है कि इस बार किसी भी व्यापारी ने विरोध नहीं जताया और आराम से काम होने दिया।


Uttarakhand News: Omprakash giving example of a serious officer

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें