Video: पहाड़ की बेटी को सलाम, देश के टॉप रेडियो चैनल पर चली दिव्या रावत की कहानी

Video: पहाड़ की बेटी को सलाम, देश के टॉप रेडियो चैनल पर चली दिव्या रावत की कहानी

Rj kavya presents story based on divya rawat - Rj kavya, ek pahadi aisa bhi, divya rawat, Uttarakhand News,,उत्तराखंड,

दिव्या रावत...उत्तराखंड की मशरूम गर्ल। ना जाने कितने खिताब, कितने सम्मान और कितनी दुआएं इस बेटी को मिल चुकी हैं। किसने सोचा था कि उत्तराखंड में पलायन रोकने के लिए एक मशरूम क्रांति आएगी ? किसने सोचा था कि भारतीय सेना के एक जांबाज की बेटी पहाड़ के लिए इतना सब कर देगी ? लेकिन कहते हैं कि एक पत्थर तबीयत से उछालो, तो आसमान में भी सुराख हो सकता है। देश के बड़े रेडियो स्टेशन Red Fm के आरजे काव्य ने दिव्या की एक कहानी पेश की है। इस कहानी के जरिए अहसास होता है कि मेहनत का कभी कोई विकल्प नहीं होता। दिव्या की जिंदगी पर स्कैच के सहारे बनी ये डॉक्यूमेंट्री एक पल के लिए भावुक भी करती है। बागेश्वर के रहने वाले आरजे काव्य ने बड़े ही खूबसूरत अंदाज में इस कहानी को पेश किया है।

इस वीडियो की एक खास बात और है। इसमें स्कैचिंग का काम सलीके से किया गया है और ये काम किया है अगम जौहर ने। अगर जौहर आर जे काव्य की टीम में हैं और उनका ये हुनर तारीफ के काबिल है। दिव्या रावत वैसे भी उत्तराखंड के लिए प्रेरणा का स्रोत बन चुकी हैं। मामूली स्तर पर मशरूम के उत्पादन की शरुआत करने वाली दिव्या रावत साल में तीन तरह के मशरूम उत्पादित कर रही हैं। बटन, ओएस्टर और मिल्की मशरूम। कर्णप्रयाग, चमोली, रुद्रप्रयाग, यमुना घाटी के विभिन्न गांवों की महिलाओं को दिव्या ने इस काम से जोड़ा। उन्होंने जितनी गंभीरता से मशरूम के उत्पादन पर ध्यान दिया, उतनी ही मेहनत से इसकी मार्केटिंग भी की। अब तो प्रदेश सरकार ने उनके कार्यक्षेत्र रवाई घाटी को मशरूम घाटी घोषित कर दिया है।

पहाड़ की बेटी दिव्या कहती हैं कि ‘नौकरी खोजने की क्या जरूरत है, इच्छाशक्ति हो तो हम घर बैठे स्वरोजगार से अच्छी-खासी कमाई कर सकते हैं। मेरा काम तो एक बेहतर शुरुआत भर है। मेरा सपना उत्तराखंड को ‘मशरूम स्टेट’ बनाना है।’ देखिए दिव्या पर बनी ये शानदार कहानी।


Uttarakhand News: Rj kavya presents story based on divya rawat

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें