Video: पहाड़ का लाल...जिसे मरणोपरांत अशोक चक्र मिला, उस वीर की पत्नी दर-दर भटक रही है

Video: पहाड़ का लाल...जिसे मरणोपरांत अशोक चक्र मिला, उस वीर की पत्नी दर-दर भटक रही है

Martyr mohan nath goswami wife struggling for job - Uttarakhand news, mohan nath goswami ,उत्तराखंड,

बड़े दुख के साथ ये बताना पड़ रहा है कि उत्तराखंड शहीद की शहादत को सरकारें भूल गई। वो शहीद जिसने देश की रक्षा के लिए 4 आतंकवादियों को मौत के घाट उतारा था। वो शहीद जिसे अदम्य साहस और पराक्रम के लिए 26 जनवरी साल 2016 में मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया था। शहीद मोहन नाथ गोस्वामी। ये बात है 3 सितबंर 2015 की है। जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में हंदवाड़ा के जंगलों में आतंकवादी अपनी नापाक कोशिशों को अंजाम देने में जुटे थे। भारतीय सेना को इस बात की खबर लगी तो आतंकवादियों को घेर लिया गया। इस फायरिंग में भारतीय सेना के तीन जवानों को गोली लगी। जवानों को किसी तरह से अस्पताल ले जाया जाना था। इसी दौरान मौके पर मौजूद लांस नायक मोहन नाथ गोस्वामी ने गजब का साहस दिखाया था।

यह भी पढें - जिसने आतंकियों से लोगों को बचाया, उत्तराखंड में उसके परिवार का ये हाल?
मोहन ने साथियों को कवर फायर दी और घायल सैनिकों को मौके से निकाला और 4 आतंकियों को ढेर कर दिया था। उत्तराखंड के सपूत और नैनीताल जिले के मोहन नाथ गोस्वामी पर इस दौरान पैर और पीठ पर गोली लगी थी। अद्भुत पराक्रम के लिए उन्हें अशोक चक्र से सम्मानित किया गया था। वक्त बीता और इस अशोक चक्र विजेता का परिवार दर दर की ठोकरें खा रहा है। क्या ये ही है एक शहीद का सम्मान ? जब मोहन नाथ गोस्वामी ने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया था तो तत्कालीन सीएम हरीश रावत ने उनकी पत्नी को नौकरी देने का वादा किया। वक्त बीता.. हरीश रावत की सरकार गई और वादा भी गया । नए हुक्मरान आए और मोहन नाथ गोस्वामी की शहादत को भूल गए। 12 हजार रुपये की पेंशन में 9 साल की बच्ची को भी पालना है और परिवार का पेट भी पालना है।

यह भी पढें - पहाड़ का सपूत...शहीद जगदीश पुरोहित की वीरता की कहानी
शहीद मोहन नाथ गोस्वामी का परिवार उत्तराखंड के नैनीताल में रहता है। उनकी मां, भाई , पत्नी और 9 साल की बिटिया यहां हैं। शहीद की पत्नी का कहना है कि ‘सम्मान अपनी जगह है, पर सरकार उनको पहले नौकरी दे’। सवाल ये है कि खोखले वादे आखिर क्यों ? क्यों एक शहीद के परिवार की संवेदनाओं से खिलवाड़ हो रहा है और इस तरह से वादाखिलाफी कर सरकारें कैसी मिसाल पेश कर रही हैं ? ये वीडियो देखिए जरा।


Uttarakhand News: Martyr mohan nath goswami wife struggling for job

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें