Video: पहाड़ की शान पप्पू कार्की को नमन, Red FM के ‘RJ-काव्य’ ने पेश किया ये वीडियो

Video: पहाड़ की शान पप्पू कार्की को नमन, Red FM के ‘RJ-काव्य’ ने पेश किया ये वीडियो

Rj kavya tribute to pappu karki  - Uttarakhand news, pappu karki ,,उत्तराखंड,

‘एक पहाड़ी ऐसा भी’..ये सीरीज़ उत्तराखंडियों को उत्तराखंड के ऐसे लोगों से रू-ब-रू करवाती है, जो पहाड़ के मान-सम्मान के लिए जिए और इतिहास रच गए। बागेश्वर तके रहने वाले कविंन्द्र सिंह (RJ काव्य) के द्वारा तैयार की जाने वाली इन कहानियों में गंभीरता, सोच, जोश, जुनून, प्यार और पहाड़ सब कुछ होते हैं। अब RJ काव्य ने देवभूमि की शान पप्पू कार्की को नमन किया है। RJ काव्य ने उनके बार में कुछ ऐसी बातें वीडियो के जरिए बताई हैं, जिनके बारे में जानकर आपको अहसास होगा कि वास्तव में पप्पू कार्की ने उत्तराखंड को अपनी सांसों में जीना सीखा था। आज अगर पप्पू कार्की लाखों के दिलों में जिंदा हैं, तो उन कामों की वजह से जो हर किसी के लिए प्रेरणादायक हैं। साल 2003 से 2006 तक दिल्ली में पेट्रोल पंप, प्रिंटिंग प्रेस और बैंक में चपरासी तक की नौकरी पप्पू कार्की को करनी पड़ी थीं।

यह भी पढें - एक पहाड़ी ऐसा भी...डीएम मंगेश की कहानी, RJ काव्य की जुबानी
इसके बाद पप्पू कार्की ने रुद्रपुर का रुख किया और दो साल डाबर कपंनी में ठेकेदारी प्रथा में काम किया था। दर-दर भटकने से खिन्न होकर पप्पू कार्की ने गांव लौटने का मन बना लिया था। इसी दौरान लोक गायक प्रह्लाद मेहरा और चांदनी इंटरप्राइजेज के नरेंद्र टोलिया की नजर पप्पू कार्की के हुनर पर पड़ी थी। इसके बाद पप्पू कार्की की जमीन तैयार होती चली गई। साल 1998 में जब पप्पू कार्की सिर्फ 14 साल के थे तो पहला गीत रिकॉर्ड कराया था लेकिन असल पहचान उन्हें 2010 में मिली। 'झम्म लागछी' एलबम के गीत 'डीडीहाट की जमुना छोरी' ने साल 2010 में सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए थे। पप्पू कार्की जिंदगी में खुद भटके थे और वो इस दर्द को अच्छी तरह से समझते भी थे। इसलिए उन्होंने जैसे तैसे कर नए और उभरते कलाकारों के लिए एक स्टूडियो भी खोला था।

यह भी पढें - पहाड़ की पीड़ा देखकर रोना आया, तो इस युवा ने संवार दिए गांव
एक साल पहले दमुवाढूंगा में पीके इंटरप्राइजेज नाम से रिकॉर्डिग स्टूडियो खोला। कई प्रशिक्षु गायकों ने उन्होंने खुद तराशा। पप्पू कार्की आज उत्तराखंड को इतनी यादें देकर चले गए हैं, जिन्हें उत्तराखंड भुलाए नहीॆं भूल सकता। तारीफ RJ काव्य की भी करनी होगी, जिन्होंने लाखों लोगों के दिलों में पप्पू कार्की की यादों को हमेशा हमेशा के लिए जिंदा किया है। आप भी देखिए पप्पू कार्की पर RJ काव्य का ये खास शो ‘एक पहाड़ी ऐसा भी।’


Uttarakhand News: Rj kavya tribute to pappu karki

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें