उत्तराखंड में सेना का युद्धाभ्यास, आतंकियों के खात्मे के लिए चला सर्च ऑपरेशन!

उत्तराखंड में सेना का युद्धाभ्यास, आतंकियों के खात्मे के लिए चला सर्च ऑपरेशन!

War practice between india and nepal in pithoragarh - Uttarakhand news, war practice ,उत्तराखंड,

इस युद्धाभ्यास का नाम है ‘सूर्यकिरण’। जी हां वॉर प्रैक्टिस सूर्यकिरण। वो युद्धाभ्यास जिसमें दुश्मन के नापाक इरादों को भांपने की तैयारी हो रही है। आतंकियों का खात्मा कर किस तरह से देश को महफूज़ रखना है, इसके लिए भारत और नेपाल की सेनाएं उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में जुटी हैं। ये जरूरी भी है क्योंकि इस वक्त उत्तराखंड सबसे बड़ा खतरा चीन जैसे मुल्क से है। चीन इससे पहले चेतावनी भी दे चुका है कि डोकलाम के बाद उत्तराखंड को निशाना बनाया जाएगा। ऐसे में भारतीय सेना ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। वॉर प्रैक्टिस सूर्यकिरण भारतीय सेना और नेपाल की सेना द्वारा किया जा रहा है। इस सर्च ऑपरेशन में अब तक युद्ध कौशल और आतंक के खात्मे के लिए कई युद्धाभ्यास हुए हैं। आइए इस बारे में आपको बता देते हैं।

यह भी पढें - देवभूमि का अमर शहीद, जिसने नारा दिया था ‘सीना चौड़ा छाती का, वीर सपूत हूं माटी का’
इस वॉर प्रैक्टिस के आठवें दिन सेना के जवानों ने इलाके में छिपे आतंकवादियों को ढूंढ निकालने के लिए सर्च ऑपरेशन का प्रदर्शन किया। दोपहर बाद गांव में छुपे आतंकियों को धर दबोचने वाली कार्रवाई का प्रदर्शन किया गया। इस एक्सरसाइज में दोनों देशों की सेना काउंटर इनसरजेंसी की टेक्टिस शेयर कर रही है। खास बात ये भी है कि इस युद्धाभ्यास में नेपाल की सेना की महिला कॉम्बेट भी हैं। भारतीय सेना की मेडिकल कोर में कैप्टन तनुश्री रतूड़ी ने इस बारे में मीडिया को बताया कि नेपाल आर्मी के साथ एक्सपीरियंस के बाद लगता है कि महिलाओं को कॉम्बेट रोल में भी होना चाहिए। तनुश्री रतूड़ी का कहना है कि हम भी कॉम्बेट ड्रिल में हिस्सा ले रहे हैं। युद्धाभ्यास सूर्यकिरण 13 का आयोजन 30 मई से 12 जून तक उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में हो रहा है।

यह भी पढें - कुमाऊं रेजीमेंट का वो अमर शहीद, जो मरने तक अपने पैर से मशीन-गन चलाता रहा
इस युद्धाभ्यास में भारत और नेपाल के लगभग 300 जवान हिस्सा ले रहे हैं। इस सैन्य युद्धाभ्यास का मुख्य उद्देश्य दुर्गम पर्वतीय क्षेत्रों में आतंकवाद का खात्मा है। इस वजह से दोनों मुल्कों की सेनाओं के बीच समन्वय विकास स्थापित किया जा रहा है। सूर्य किरण एक ऐसा सैन्य अभ्यास है, जो हर 6 महीने में बारी बारी से दोनों ही मुल्कों में होता है। भारतीय सेना का नेपाल के साथ आयोजित होने वाला सूर्य किरण युद्धाभ्यास, इसमें भाग लेने वाले सैनिकों की संख्या के लिहाज से सबसे बड़ा है। कुल मिलाकर कहें तो देश की सीमाओं को महफूज रखने के लिए भारत और नेपाल की सेनाओं के जवान युद्धाभ्यास कर रहे हैं। खास बात ये है कि इस बार महिला जवान भी इसमें अपमना दम खम दिखा रही हैं। सलाम है ऐसे वीर जवानों को।


Uttarakhand News: War practice between india and nepal in pithoragarh

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें