बड़ी खबर: केदारनाथ में भूकंप के झटके, दहशत में घरों से बाहर निकले लोग !

बड़ी खबर: केदारनाथ में भूकंप के झटके, दहशत में घरों से बाहर निकले लोग !

Earthquake in kedarnath says report - Uttarakhand news, kedarnath ,उत्तराखंड,

सोशल मीडिया के हवाले से खबर मिल रही है कि केदारनाथ घाटी में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। बताया जा रहा है कि बुद्धवार 6 जून रात के करीब 11 बजकर 20 मिनट पर ये झटके महसूस किए गए हैं। केदारनाथ में ही मौजूद बदरी-केदार मंदिर समिति में कार्यरत सोमनाथ पोस्ती जी से राज्य समीक्षा ने बात की है। इस दौरान उन्होंने बताया कि करीब 11 बजकर 20 मिनट पर ये भूकंप के झटके महसूस किए गए है। 2013 की आपदा के बाद से थोड़ी सी भी धरती हिली तो स्थानीय लोगों की रूह कांप जाती है। सोमनाथ पोस्ती ने बताया कि भूकंप के ये झटके करीब 2 से 3 सेकंड तक महसूस किए गए हैं। हालांकि रिक्टर स्केल पर इस भूकंप की तीव्रता कितनी है, इस बात का अभी पता नहीं चल पाया है। लेकिन बताया जा रहा है कि ये झटका 3 से 4 रिक्टर स्केल का रहा होगा।

यह भी पढें - उत्तराखंड पर 8 रिक्टर स्केल के भूकंप का खतरा, भू-वैज्ञानिकों ने दी गंभीर चेतावनी
भूकंप का झटका छोटा रहा होगा इसलिए जान-माल का कोई भी नुकसान नहीं हुआ है। इस बारे में राज्य समीक्षा की टीम ने रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल से भी बात करने की कोशिश की है, कोई भी अपडेट हुआ तो आप तक जरूर पहुंचाएंगे। इससे पहले भूगर्भ वैज्ञानिक बता चुके हैं कि 50 सालों से हिमालय में जो भूकंपीय ऊर्जा भूगर्भ में एकत्रित है, उसका अभी सिर्फ 5 प्रतिशत ही बाहर आया है। वाडिया हिमालय भू-विज्ञान संस्थान ने अपनी रिसर्च में ये बात सामने आई है। वैज्ञानिक इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि ये इतनी ऊर्जा है, जिससे कभी भी आठ रिक्टर स्केल तक का बड़ा भूंकप आ सकता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि सारे छोटे बड़े भूकंपों को मिलाकर सिर्फ पांच फीसदी ऊर्जा ही बाहर निकली है।

यह भी पढें - उत्तराखंड और हिमाचल के लिए वैज्ञानिकों की चेतावनी, रिसर्च के बाद रिपोर्ट में बड़ा खुलासा !
इसका मतलब है कि अभी 95 फीसदी भूकंपीय ऊर्जा भूगर्भ में ही जमा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि ये ऊर्जा कब बाहर निकलेगी, इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता। एक वैज्ञानिक रिसर्च ये भी कहती है कि देहरादून में भी एक भूगर्भीय प्लेट धधक रही है। साथ ही कहा गया कि इंडियन प्लेट भूगर्भ में 14 मिलीमीटर प्रतिवर्ष की रफ्तार से सिकुड़ रही है। इस वजह से ऊर्जा का अध्ययन करना जरूरी था। इस रिसर्च में उत्तरकाशी में 1991 में आए 6.4 रिक्टर के भूकंप, किन्नौर में 1975 में आए 6.8 रिक्टर स्केल के भूकंप और चमोली में 1999 में आए 6.6 रिक्टर स्केल के भूकंप के बारे में रिपोर्ट बताई गई हैं। खैर आपदा के बाद से वैसे ही केदारनाथ का आमजन खौफज़दा है। ऐसे में खबर आ रही है कि केदारनाथ में हल्के भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं।


Uttarakhand News: Earthquake in kedarnath says report

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें