उत्तराखंड के लिए हर जिले के लिए अच्छी खबर, 13 पर्यटक स्थलों में अब हेलीकॉप्टर सेवा

उत्तराखंड के लिए हर जिले के लिए अच्छी खबर, 13 पर्यटक स्थलों में अब हेलीकॉप्टर सेवा

Cm Trivendra singh rawat meeting with aviation dept  - Uttarakhand news, trivendra singh rawat  ,उत्तराखंड,

उत्तराखंड के हर जिले के लिए अच्छी खबर है। में सरकार द्वारा 13 जिलों की 13 डेस्टिनेशन के लिए प्लान तैयार हो चुका है। इस इन 13 डेस्टिनेशन को हेलीकॉप्टर सर्विस से जोड़ा जाना है। जी हां आपको याद होगा कि इससे पहले टिहरी झील में त्रिवेंद्र कैबिनेट की मीटिंग हुई थी। इस मीटिंग उत्तराखंड में पर्यटन को उद्योग का दर्जा देने पर आखिरी मुहर लगी थी। साफ ऐलान किया गया है कि 13 जिले-13 डेस्टिनेशन के फॉर्मूले को आगे बढ़ाया जा रहा है। ये 13 पर्यटक स्थल कौन कौन से हैं, जरा ये भी जान लीजिए। धार्मिक पर्यटन के रूप में अल्मोड़ा का कटारमल सूर्य मंदिर तैयार होगा। नैनीताल के मुक्तेश्वर मंदिर को हिमालय दर्शन के तहत तैयार किया जाएगा। पौड़ी में सतपुली और खैरासेंण झील को वॉटर डेस्टिनेशन के लिए तैयार किया जाएगा।

यह भी पढें - टिहरी झील में पहली बार...बोट पर हुई कैबिनेट मीटिंग, हर जिले के लिए आई खुशखबरी
चमोली में गैरसैंण और भराणीसैंण को टूरिस्ट प्लेस के रूप में विकसित किया जाएगा। देहरादून के लाखामंडल को धार्मिक पर्यटन के रूप में विकसित किया जाएगा। हरिद्वार में बावन शक्ति पीठ को थीम पार्क के रूप में स्थापित किया जाएगा। उत्तरकाशी में मोरी और हर की दून को हेरिटेज के रूप में विकसित किया जाएगा। टिहरी में टिहरी झील को इंटरनेशनल टूरिस्ट डेस्टिनेशन के रूप में विकसित किया जाएगा। रुद्रप्रयाग में चिरबिठ्या को हेरिटेज डेस्टिनेशन के रूप में विकसित किया जाएगा।उधम सिंह नगर में गुलर, चम्पावत में देवीधुरा, बागेश्वर में गरुण वैली और पिथौरागढ़ को ईको टूरिज्म के रूप में विकसित किया जाएगा। इस तरह से 13 जिले-13 डेस्टिनेशन को विकसित किया जाएगा। इस बारे में अब एक अच्छी खबर सामने आई है।

यह भी पढें - सिर्फ उत्तराखंड में ऐसा हो रहा है... सीएम एप पर कीजिए शिकायत, तुरंत हो रही है कार्रवाई
अब इन 13 पर्यटन डेस्टिनेशंस को सरकार द्वारा हेली सर्विस से जोड़ने की योजना तैयार हो रही है। इसी को लेकर सचिवालय में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उड्यन विभाग के अधिकारियों से साथ बैठक की। इस दौरान अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश दिए गए। इसी दौरान सीएम के पास केदारनाथ में हेली कंपनियों की मनमानी की खबर भी आई। सीएम द्वारा सख्त निर्देश दे दिए गए हैं कि हेली सर्विस के खिलाफ मिल रही शिकायतों की जांच की जाए। जो भी दोषी हो, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। इस वक्त उत्तराखंड में सबसे आगे जो उद्योग जा सकता है, वो है पर्यटन उद्योग। अपार संभावनाओं से भरा ये उद्योग अब एक नई उड़ान भरने के लिए तैयार है। सरकार द्वारा जो ऐलान किया गया, उस पर सही तरह से फोकस किया गया, तो पर्यटन को नई उड़ान मिलेगी। साथ ही रोजगार की अपार संभावनाओं को भी बल मिलेगा।


Uttarakhand News: Cm Trivendra singh rawat meeting with aviation dept

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें